aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

सफ़िया शमीम

ग़ज़ल 5

 

नज़्म 1

 

अशआर 6

होना है दर्द-ए-इश्क़ से गर लज़्ज़त-आश्ना

दिल को ख़राब-ए-तल्ख़ी-ए-हिज्राँ तो कीजिए

बहार-ए-नौ की फिर है आमद आमद

चमन उजड़ा कोई फिर हम-नफ़स क्या

जिस को दिल से लगा के रक्खा था

वो ख़ज़ाना लुटा गए आँसू

दश्त गुलज़ार हुआ जाता है

क्या यहाँ अहल-ए-वफ़ा बैठे थे

होश आया तो कहीं कुछ भी था

हम भी किस बज़्म में जा बैठे थे

"रावलपिंडी" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए