Safiya Shamim's Photo'

सफ़िया शमीम

1920 - 2008 | रावलपिंडी, पाकिस्तान

ग़ज़ल 5

 

शेर 6

जिस को दिल से लगा के रक्खा था

वो ख़ज़ाना लुटा गए आँसू

होश आया तो कहीं कुछ भी था

हम भी किस बज़्म में जा बैठे थे

रोना मुझे ख़िज़ाँ का नहीं कुछ मगर 'शमीम'

इस का गिला है आई चमन में बहार क्यूँ

ई-पुस्तक 1

 

संबंधित शायर

  • जोश मलीहाबादी जोश मलीहाबादी Uncle

"रावलपिंडी" के और शायर

  • यामीन यामीन
  • अख़्तर होशियारपुरी अख़्तर होशियारपुरी
  • अफ़ज़ल मिनहास अफ़ज़ल मिनहास
  • यूसुफ़ ज़फ़र यूसुफ़ ज़फ़र
  • जमील मलिक जमील मलिक
  • परवीन फ़ना सय्यद परवीन फ़ना सय्यद
  • असद मुल्तानी असद मुल्तानी
  • निसार नासिक निसार नासिक
  • जलील ’आली’ जलील ’आली’
  • बशीर सैफ़ी बशीर सैफ़ी