Safiya Shamim's Photo'

सफ़िया शमीम

1920 - 2008 | रावलपिंडी, पाकिस्तान

ग़ज़ल 5

 

शेर 6

जिस को दिल से लगा के रक्खा था

वो ख़ज़ाना लुटा गए आँसू

होश आया तो कहीं कुछ भी था

हम भी किस बज़्म में जा बैठे थे

दश्त गुलज़ार हुआ जाता है

क्या यहाँ अहल-ए-वफ़ा बैठे थे

संबंधित शायर

  • जोश मलीहाबादी जोश मलीहाबादी Uncle

"रावलपिंडी" के और शायर

  • एजाज़ गुल एजाज़ गुल
  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • अज़ीज़ फ़ैसल अज़ीज़ फ़ैसल
  • मोहम्मद हनीफ़ रामे मोहम्मद हनीफ़ रामे
  • कौसर  नियाज़ी कौसर नियाज़ी
  • अनवार फ़ितरत अनवार फ़ितरत
  • अब्बास रिज़वी अब्बास रिज़वी
  • अब्बास दाना अब्बास दाना
  • सरफ़राज़ शाहिद सरफ़राज़ शाहिद
  • अदीब सहारनपुरी अदीब सहारनपुरी