Saud Usmani's Photo'

सऊद उस्मानी

1958 | कराची, पाकिस्तान

ग़ज़ल 23

शेर 25

हैरत से तकता है सहरा बारिश के नज़राने को

कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को

मैं चाहता हूँ उसे और चाहने के सिवा

मिरे लिए तो कोई और रास्ता भी नहीं

ये जो मैं इतनी सहूलत से तुझे चाहता हूँ

दोस्त इक उम्र में मिलती है ये आसानी भी

ई-पुस्तक 2

बारिश

 

 

Qaus

 

1997

 

"कराची" के और शायर

  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • मोहम्मद हनीफ़ रामे मोहम्मद हनीफ़ रामे
  • कौसर  नियाज़ी कौसर नियाज़ी
  • सरफ़राज़ शाहिद सरफ़राज़ शाहिद
  • अनवार फ़ितरत अनवार फ़ितरत
  • अब्बास रिज़वी अब्बास रिज़वी
  • अब्बास दाना अब्बास दाना
  • हमीद नसीम हमीद नसीम
  • अदीब सहारनपुरी अदीब सहारनपुरी
  • शब्बीर शाहिद शब्बीर शाहिद