ग़ज़ल 23

शेर 28

हैरत से तकता है सहरा बारिश के नज़राने को

कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को

जान है तो जहान है दिल है तो आरज़ू भी है

इशक़ भी हो रहेगा फिर जान अभी बचाइए

मुझे ये सारे मसीहा अज़ीज़ हैं लेकिन

ये कह रहे हैं कि मैं तुम से फ़ासला रक्खूँ

पुस्तकें 2

बारिश

 

 

Qaus

 

1997

 

"कराची" के और शायर

  • कौसर  नियाज़ी कौसर नियाज़ी
  • इशरत रूमानी इशरत रूमानी
  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • सिराज मुनीर सिराज मुनीर
  • अज़्म बहज़ाद अज़्म बहज़ाद
  • अकबर मासूम अकबर मासूम
  • तनवीर अंजुम तनवीर अंजुम
  • अहमद हातिब सिद्दीक़ी अहमद हातिब सिद्दीक़ी
  • निसार तुराबी निसार तुराबी
  • फ़ातिमा  हसन फ़ातिमा हसन