Saud Usmani's Photo'

सऊद उस्मानी

1958 | कराची, पाकिस्तान

ग़ज़ल 23

शेर 25

हैरत से तकता है सहरा बारिश के नज़राने को

कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को

मैं चाहता हूँ उसे और चाहने के सिवा

मिरे लिए तो कोई और रास्ता भी नहीं

ये जो मैं इतनी सहूलत से तुझे चाहता हूँ

दोस्त इक उम्र में मिलती है ये आसानी भी

ई-पुस्तक 2

बारिश

 

 

Qaus

 

1997

 

"कराची" के और शायर

  • अदीब सहारनपुरी अदीब सहारनपुरी
  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • सिराज मुनीर सिराज मुनीर
  • कौसर  नियाज़ी कौसर नियाज़ी
  • अज़्म बहज़ाद अज़्म बहज़ाद
  • अकबर मासूम अकबर मासूम
  • तनवीर अंजुम तनवीर अंजुम
  • अहमद हातिब सिद्दीक़ी अहमद हातिब सिद्दीक़ी
  • निसार तुराबी निसार तुराबी
  • फ़ातिमा  हसन फ़ातिमा हसन

Added to your favorites

Removed from your favorites