aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

शाहिद अहसन मोरादाबादी

1925 | मुरादाबाद, भारत

शाहिद अहसन मोरादाबादी

अशआर 4

तेरी ज़ुल्फ़ें तिरे आरिज़ तिरी आँखें तिरे लब

मैं ज़मींदार हूँ ये सब मिरी जागीरें हैं

  • शेयर कीजिए

सोने वालों को जगाना तो है आसान मगर

जागने वालों को किस तरह जगाया जाए

  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी बीत गई गिनते हुए तारीख़ें

खा गई वक़्त की दीवार कैलेंडर कितने

  • शेयर कीजिए

ये बात मुंसिफ़ों में अभी ज़ेर-ए-ग़ौर है

पत्थर को मैं लगा हूँ कि पत्थर लगा मुझे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 8

 

संबंधित शायर

"मुरादाबाद" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए