noImage

शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम

1699 - 1783 | दिल्ली, भारत

4.4K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मुद्दत से ख़्वाब में भी नहीं नींद का ख़याल

हैरत में हूँ ये किस का मुझे इंतिज़ार है

चाँद से तुझ को जो दे निस्बत सो बे-इंसाफ़ है

चाँद के मुँह पर हैं छाईं तेरा मुखड़ा साफ़ है

कपड़े सफ़ेद धो के जो पहने तो क्या हुआ

धोना वही जो दिल की सियाही को धोइए

इतना मैं इंतिज़ार किया उस की राह में

जो रफ़्ता रफ़्ता दिल मिरा बीमार हो गया

मुद्दत से आरज़ू है ख़ुदा वो घड़ी करे

हम तुम पिएँ जो मिल के कहीं एक जा शराब

आई ईद दिल में नहीं कुछ हवा-ए-ईद

काश मेरे पास तू आता बजाए ईद

होली के अब बहाने छिड़का है रंग किस ने

नाम-ए-ख़ुदा तुझ ऊपर इस आन अजब समाँ है

तन्हाई से आती नहीं दिन रात मुझे नींद

या-रब मिरा हम-ख़्वाब हम-आग़ोश कहाँ है

'हातिम' उस ज़ुल्फ़ की तरफ़ मत देख

जान कर क्यूँ बला में फँसता है

ख़िज़ाँ भाग जा चमन से शिताब

वर्ना फ़ौज-ए-बहार आवे है

साक़ी मुझे ख़ुमार सताए है ला शराब

मरता हूँ तिश्नगी से ज़ालिम पिला शराब

ऐसा करूँगा अब के गरेबाँ को तार तार

जो फिर किसी तरह से किसी से रफ़ू हो

मुझे तावीज़ लिख दो ख़ून-ए-आहू से कि स्यानो

तग़ाफ़ुल टोटका है और जादू है नज़र उस की

सौ बार तार तार किया तो भी अब तलक

साबित वही है दस्त गरेबाँ की दोस्ती

ख़ुदा के वास्ते उस से बोलो

नशे की लहर में कुछ बक रहा है

तेरे आने से यू ख़ुशी है दिल

जूँ कि बुलबुल बहार की ख़ातिर

जी उठूँ फिर कर अगर तू एक बोसा दे मुझे

चूसना लब का तिरे है मुझ को जूँ आब-ए-हयात

तिरी जो ज़ुल्फ़ का आया ख़याल आँखों में

वहीं खटकने लगा बाल बाल आँखों में

अदा-ओ-नाज़ करिश्मा जफ़ा-ओ-जौर-ओ-सितम

उधर ये सब हैं इधर एक मेरी जाँ तन्हा

नज़र में बंद करे है तू एक आलम को

फ़ुसूँ है सेहर है जादू है क्या है आँखों में

जो जी में आवे तो टुक झाँक अपने दिल की तरफ़

कि उस तरफ़ को इधर से भी राह निकले है

ये किस मज़हब में और मशरब में है हिन्दू मुसलमानो

ख़ुदा को छोड़ दिल में उल्फ़त-ए-दैर-ओ-हरम रखना

उस वक़्त दिल मिरा तिरे पंजे के बीच था

जिस वक़्त तू ने हात लगाया था हात को

तिरे रुख़्सार से बे-तरह लिपटी जाए है ज़ालिम

जो कुछ कहिए तो बल खा उलझती है ज़ुल्फ़ बे-ढंगी

मेरे आँसू के पोछने को मियाँ

तेरी हो आस्तीं ख़ुदा करे

सुनो हिन्दू मुसलमानो कि फ़ैज़-ए-इश्क़ से 'हातिम'

हुआ आज़ाद क़ैद-ए-मज़हब-ओ-मशरब से अब फ़ारिग़

फ़िल-हक़ीक़त कोई नहीं मरता

मौत हिकमत का एक पर्दा है

कुछ सितम से तिरे आह आह करता हूँ

मैं अपने दिल की मदद गाह गाह करता हूँ

मज़रा-ए-दुनिया में दाना है तो डर कर हाथ डाल

एक दिन देना है तुझ को दाने दाने का हिसाब

तुम्हारे इश्क़ में हम नंग-ओ-नाम भूल गए

जहाँ में काम थे जितने तमाम भूल गए

अहल-ए-म'अनी जुज़ बूझेगा कोई इस रम्ज़ को

हम ने पाया है ख़ुदा को सूरत-ए-इंसाँ के बीच

कभू बीमार सुन कर वो अयादत को तो आता था

हमें अपने भले होने से वो आज़ार बेहतर था

मुहय्या सब है अब अस्बाब-ए-होली

उठो यारो भरो रंगों से झोली

वक़्त फ़ुर्सत दे तो मिल बैठें कहीं बाहम दो दम

एक मुद्दत से दिलों में हसरत-ए-तरफ़ैन है

दोस्तों से दुश्मनी और दुश्मनों से दोस्ती

बे-मुरव्वत बेवफ़ा बे-रहम ये क्या ढंग है

देखूँ हूँ तुझ को दूर से बैठा हज़ार कोस

ऐनक चाहिए यहाँ दूरबीं मुझे

फड़कूँ तो सर फटे है फड़कूँ तो जी घटे

तंग इस क़दर दिया मुझे सय्याद ने क़फ़स

छल-बल उस की निगाह का मत पूछ

सेहर है टोटका है टोना है

मुद्दत हुई पलक से पलक आश्ना नहीं

क्या इस से अब ज़ियादा करे इंतिज़ार चश्म

अगर रोते हम तो देखते तुम

जहाँ में नाव को दरिया होता

ज़र्फ़ टूटा तो वस्ल होता है

दिल कोई टूटा किस तरह जोड़े

मैं जितना ढूँढता हूँ उस को उतना ही नहीं पाता

किधर है किस तरफ़ है और कहाँ है दिल ख़ुदा जाने

एक बोसा माँगता है तुम से 'हातिम' सा गदा

जानियो राह-ए-ख़ुदा में ये भी इक ख़ैरात की

हम तिरी राह में जूँ नक़्श-ए-क़दम बैठे हैं

तू तग़ाफ़ुल किए यार चला जाता है

हमारी गुफ़्तुगू सब से जुदा है

हमारे सब सुख़न हैं बाँकपन के

जाँ-ब-लब था तो अयादत को भी जाते थे

मैं तो लो और बुरा हो गया अच्छा हो कर

दिल की लहरों का तूल-ओ-अर्ज़ पूछ

कभू दरिया कभू सफ़ीना है

मेरा माशूक़ है मज़ों में भरा

कभू मीठा कभू सलोना है

आब-ए-हयात जा के किसू ने पिया तो क्या

मानिंद-ए-ख़िज़्र जग में अकेला जिया तो क्या

हुस्न आईना फ़ाश करता है

ऐसे दुश्मन को संगसार करो