noImage

शारिब लखनवी

लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 23

शेर 2

वो मिरे पास से गुज़रे तो ये मालूम हुआ

ज़िंदगी यूँ भी दबे पाँव गुज़र जाती है

  • शेयर कीजिए

गुल तोड़ लिया शाख़ से ये कह के ख़िज़ाँ ने

ये एक तबस्सुम का गुनहगार हुआ है

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

फ़िर्दौस-ए-नज़र

 

1972

 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़