noImage

इमदाद अली बहर

1810 - 1878 | लखनऊ, भारत

इमदाद अली बहर

ग़ज़ल 88

शेर 80

आँखें जीने देंगी तिरी बे-वफ़ा मुझे

क्यूँ खिड़कियों से झाँक रही है क़ज़ा मुझे

  • शेयर कीजिए

बनावट वज़्अ'-दारी में हो या बे-साख़्ता-पन में

हमें अंदाज़ वो भाता है जिस में कुछ अदा निकले

  • शेयर कीजिए

कौसर का जाम उस को इलाही नसीब हो

कोई शराब मेरी लहद पर छिड़क गया

  • शेयर कीजिए

हम कहते थे हँसी अच्छी नहीं

गई आख़िर रुकावट देखिए

  • शेयर कीजिए

ख़्वाहिश-ए-दीदार में आँखें भी हैं मेरी रक़ीब

सात पर्दों में छुपा रक्खा है उस के नूर को

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI