noImage

इमदाद अली बहर

- 1878 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 86

शेर 80

आँखें जीने देंगी तिरी बे-वफ़ा मुझे

क्यूँ खिड़कियों से झाँक रही है क़ज़ा मुझे

  • शेयर कीजिए

कौसर का जाम उस को इलाही नसीब हो

कोई शराब मेरी लहद पर छिड़क गया

  • शेयर कीजिए

यार तक ले गए अश्क बहा कर हम को

इस को भी देख लिया दीदा-ए-तर कुछ भी नहीं

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 1

Riyaz-ul-Bahr

 

1837

 

संबंधित शायर

  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर समकालीन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब समकालीन
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी समकालीन
  • इमाम बख़्श नासिख़ इमाम बख़्श नासिख़ गुरु
  • हातिम अली मेहर हातिम अली मेहर समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • शाहिद कमाल शाहिद कमाल
  • नातिक़ लखनवी नातिक़ लखनवी
  • रशीद लखनवी रशीद लखनवी
  • शारिब लखनवी शारिब लखनवी
  • असर लखनवी असर लखनवी
  • मुश्ताक़ नक़वी मुश्ताक़ नक़वी
  • संजय मिश्रा शौक़ संजय मिश्रा शौक़
  • मिर्ज़ा अल्ताफ़ हुसैन आलिम लखनवी मिर्ज़ा अल्ताफ़ हुसैन आलिम लखनवी
  • राकेश राही राकेश राही
  • आइशा अय्यूब आइशा अय्यूब