noImage

शैख़ अली बख़्श बीमार

1789 - 1854 | रामपुर, भारत

कौन पुरसाँ है हाल-ए-बिस्मिल का

ख़ल्क़ मुँह देखती है क़ातिल का

चशम-दिलबर ने दिल-ए-ज़ार की दिलदारी की

आह बीमार ने बीमार की ग़म-ख़्वारी की