Syeda Nafis Bano shama's Photo'

सय्यदा नफ़ीस बानो शम्अ

1957 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 15

शेर 4

बहुत ग़ुरूर था बिफरे हुए समुंदर को

मगर जो देखा मिरे आँसुओं से कम-तर था

ख़्वाब और नींदों का ख़त्म हो गया रिश्ता

मुद्दतों से आँखों में रत-जगों का मौसम है

खिड़कियाँ खोल लूँ हर शाम यूँही सोचों की

फिर उसी राह से यादों को गुज़रता देखूँ

पुस्तकें 6

Barf Ka Aadmi

 

2010

Jannat Se Nikali Hui Hawwa

 

1998

Jannat Se Nikali Hui Hawwa

 

2014

Kainaat Bhar Sannata

 

2000

Kuchh Dard Ke Sehra Se

 

2011

Mahki Mahki Raat

 

2014

 

"दिल्ली" के और शायर

  • राशिद जमाल फ़ारूक़ी राशिद जमाल फ़ारूक़ी
  • नियाज़ हैदर नियाज़ हैदर
  • नश्तर अमरोहवी नश्तर अमरोहवी
  • नज़्मी सिकंदराबादी नज़्मी सिकंदराबादी
  • मीर शम्सुद्दीन फ़क़ीर मीर शम्सुद्दीन फ़क़ीर
  • अबीर अबुज़री अबीर अबुज़री
  • उबैद सिद्दीक़ी उबैद सिद्दीक़ी
  • शहपर रसूल शहपर रसूल
  • रउफ़ रज़ा रउफ़ रज़ा
  • अरशद कमाल अरशद कमाल