Syeda Nafis Bano shama's Photo'

सय्यदा नफ़ीस बानो शम्अ

1957 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 15

शेर 4

बहुत ग़ुरूर था बिफरे हुए समुंदर को

मगर जो देखा मिरे आँसुओं से कम-तर था

खिड़कियाँ खोल लूँ हर शाम यूँही सोचों की

फिर उसी राह से यादों को गुज़रता देखूँ

ख़्वाब और नींदों का ख़त्म हो गया रिश्ता

मुद्दतों से आँखों में रत-जगों का मौसम है

पुस्तकें 5

Barf Ka Aadmi

 

2010

Jannat Se Nikali Hui Hawwa

 

1998

Kainaat Bhar Sannata

 

2000

Kuchh Dard Ke Sehra Se

 

2011

Mahki Mahki Raat

 

2014

 

"दिल्ली" के और शायर

  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • ज़हीर देहलवी ज़हीर देहलवी
  • अब्दुल रहमान एहसान देहलवी अब्दुल रहमान एहसान देहलवी
  • अमीर क़ज़लबाश अमीर क़ज़लबाश