Tripurari's Photo'

त्रिपुरारि

1986 | मुंबई, भारत

ग़ज़ल 14

शेर 22

हवा तू ही उसे ईद-मुबारक कहियो

और कहियो कि कोई याद किया करता है

  • शेयर कीजिए

मोहब्बत में शिकायत कर रहा हूँ

शिकायत में मोहब्बत कर रहा हूँ

तुम जिसे चाँद कहते हो वो अस्ल में

आसमाँ के बदन पर कोई घाव है

  • शेयर कीजिए

कितनी दिलकश हैं ये बारिश की फुवारें लेकिन

ऐसी बारिश में मिरी जान भी जा सकती है

  • शेयर कीजिए

जिसे तुम ढूँडती रहती हो मुझ में

वो लड़का जाने कब का मर चुका है

  • शेयर कीजिए

चित्र शायरी 3

इस तरह रस्म मोहब्बत की अदा होती है आज से तेरी मिरी राह जुदा होती है मैं किसी और ही दुनिया में पहुँच जाता हूँ जब भी कानों में अज़ानों की सदा होती है बद-दुआ' कोई अगर दे तो बुरा मत मानो बद-दुआ' भी तो मिरी जान दुआ होती है नींद के साथ ही इक बाब नया खुलता है ख़्वाब के टूटने जुड़ने की कथा होती है जिस्म की वादियों में रह के ये जाना मैं ने जिस्म की प्यास तो घनघोर घटा होती है मैं तुझे छोड़ के हरगिज़ नहीं जाने वाला ऐ मिरी जान तू बे-वज्ह ख़फ़ा होती है दो जवाँ दिल जो मोहब्बत में कभी पड़ जाएँ क्या ये सच-मुच में ख़ुदा की ही ख़ता होती है

ऐ हवा तू ही उसे ईद-मुबारक कहियो और कहियो कि कोई याद किया करता है

जिसे तुम ढूँडती रहती हो मुझ में वो लड़का जाने कब का मर चुका है

 

"मुंबई" के और शायर

  • गुलज़ार गुलज़ार
  • अख़्तरुल ईमान अख़्तरुल ईमान
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • मजरूह सुल्तानपुरी मजरूह सुल्तानपुरी
  • कैफ़ी आज़मी कैफ़ी आज़मी
  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर
  • राजेश रेड्डी राजेश रेड्डी
  • जावेद अख़्तर जावेद अख़्तर
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर