noImage

वहीद अर्शी

1943 - 1986 | कोलकाता, भारत

शेर 4

दिल का सारा दर्द सिमट आया है मेरी पलकों में

कितने ताज-महल डूबेंगे पानी की इन बूँदों में

  • शेयर कीजिए

भाग चलूँ यादों के ज़िंदाँ से अक्सर सोचा लेकिन

जब भी क़स्द किया तो देखा ऊँची है दीवार बहुत

  • शेयर कीजिए

ग़म-ए-हयात की कीलें थीं दस्त-ओ-पा में जड़ीं

तमाम उम्र रहे हम सलीब पर लटके

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Yadon Ka Zindan

 

1991

 

"कोलकाता" के और शायर

  • एज़ाज़ अफ़ज़ल एज़ाज़ अफ़ज़ल
  • हुरमतुल इकराम हुरमतुल इकराम
  • फ़राग़ रोहवी फ़राग़ रोहवी
  • आरज़ू सहारनपुरी आरज़ू सहारनपुरी
  • अमीर रज़ा मज़हरी अमीर रज़ा मज़हरी
  • जाफ़र साहनी जाफ़र साहनी
  • जुर्म मुहम्मदाबादी जुर्म मुहम्मदाबादी
  • रोहित सोनी ताबिश रोहित सोनी ताबिश
  • इब्राहीम होश इब्राहीम होश
  • मुर्ली धर शर्मा तालिब मुर्ली धर शर्मा तालिब