Zafar Iqbal's Photo'

ज़फ़र इक़बाल

1933 | लाहौर, पाकिस्तान

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/नई दिशा देने वाले शायर

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/नई दिशा देने वाले शायर

अब के इस बज़्म में कुछ अपना पता भी देना

पाँव पर पाँव जो रखना तो दबा भी देना

यहाँ किसी को भी कुछ हस्ब-ए-आरज़ू मिला

किसी को हम मिले और हम को तू मिला

झूट बोला है तो क़ाएम भी रहो उस पर 'ज़फ़र'

आदमी को साहब-ए-किरदार होना चाहिए

उस को आना था कि वो मुझ को बुलाता था कहीं

रात भर बारिश थी उस का रात भर पैग़ाम था

अब वही करने लगे दीदार से आगे की बात

जो कभी कहते थे बस दीदार होना चाहिए

तुझ को मेरी मुझे तेरी ख़बर जाएगी

ईद अब के भी दबे पाँव गुज़र जाएगी

घर नया बर्तन नए कपड़े नए

इन पुराने काग़ज़ों का क्या करें

जैसी अब है ऐसी हालत में नहीं रह सकता

मैं हमेशा तो मोहब्बत में नहीं रह सकता

सफ़र पीछे की जानिब है क़दम आगे है मेरा

मैं बूढ़ा होता जाता हूँ जवाँ होने की ख़ातिर

ख़ुदा को मान कि तुझ लब के चूमने के सिवा

कोई इलाज नहीं आज की उदासी का

तुम ही बतलाओ कि उस की क़द्र क्या होगी तुम्हें

जो मोहब्बत मुफ़्त में मिल जाए आसानी के साथ

ख़ुशी मिली तो ये आलम था बद-हवासी का

कि ध्यान ही रहा ग़म की बे-लिबासी का

जब नज़ारे थे तो आँखों को नहीं थी परवा

अब इन्ही आँखों ने चाहा तो नज़ारे नहीं थे

बदन का सारा लहू खिंच के गया रुख़ पर

वो एक बोसा हमें दे के सुर्ख़-रू है बहुत

उस को भी याद करने की फ़ुर्सत थी मुझे

मसरूफ़ था मैं कुछ भी करने के बावजूद

भरी रहे अभी आँखों में उस के नाम की नींद

वो ख़्वाब है तो यूँही देखने से गुज़रेगा

विदाअ' करती है रोज़ाना ज़िंदगी मुझ को

मैं रोज़ मौत के मंजधार से निकलता हूँ

वो बहुत चालाक है लेकिन अगर हिम्मत करें

पहला पहला झूट है उस को यक़ीं जाएगा

अपने ही सामने दीवार बना बैठा हूँ

है ये अंजाम उसे रस्ते से हटा देने का

मुस्कुराते हुए मिलता हूँ किसी से जो 'ज़फ़र'

साफ़ पहचान लिया जाता हूँ रोया हुआ मैं

टकटकी बाँध के मैं देख रहा हूँ जिस को

ये भी हो सकता है वो सामने बैठा ही हो

मौत के साथ हुई है मिरी शादी सो 'ज़फ़र'

उम्र के आख़िरी लम्हात में दूल्हा हुआ मैं

मैं किसी और ज़माने के लिए हूँ शायद

इस ज़माने में है मुश्किल मिरा ज़ाहिर होना

ख़राबी हो रही है तो फ़क़त मुझ में ही सारी

मिरे चारों तरफ़ तो ख़ूब अच्छा हो रहा है

वहाँ मक़ाम तो रोने का था मगर दोस्त

तिरे फ़िराक़ में हम को हँसी बहुत आई

यूँ भी होता है कि यक दम कोई अच्छा लग जाए

बात कुछ भी हो और दिल में तमाशा लग जाए

ख़ामुशी अच्छी नहीं इंकार होना चाहिए

ये तमाशा अब सर-ए-बाज़ार होना चाहिए

रू-ब-रू कर के कभी अपने महकते सुर्ख़ होंट

एक दो पल के लिए गुल-दान कर देगा मुझे

चेहरे से झाड़ पिछले बरस की कुदूरतें

दीवार से पुराना कैलन्डर उतार दे

अभी मेरी अपनी समझ में भी नहीं रही

मैं जभी तो बात को मुख़्तसर नहीं कर रहा

बस एक बार किसी ने गले लगाया था

फिर उस के बाद मैं था मेरा साया था

उठा सकते नहीं जब चूम कर ही छोड़ना अच्छा

मोहब्बत का ये पत्थर इस दफ़ा भारी ज़ियादा है

मुझ से छुड़वाए मिरे सारे उसूल उस ने 'ज़फ़र'

कितना चालाक था मारा मुझे तन्हा कर के

आँख के एक इशारे से किया गुल उस ने

जल रहा था जो दिया इतनी हवा होते हुए

सुना है वो मिरे बारे में सोचता है बहुत

ख़बर तो है ही मगर मो'तबर ज़्यादा नहीं

हम इतनी रौशनी में देख भी सकते नहीं उस को

सो अपने आप ही इस चाँद को गहनाए रखते हैं

मुझ में हैं गहरी उदासी के जरासीम इस क़दर

मैं तुझे भी इस मरज़ में मुब्तला कर जाऊँगा

तिरा चढ़ा हुआ दरिया समझ में आता है

तिरे ख़मोश किनारे नहीं समझता हूँ

अब उस की दीद मोहब्बत नहीं ज़रूरत है

कि उस से मिल के बिछड़ने की आरज़ू है बहुत

कब वो ज़ाहिर होगा और हैरान कर देगा मुझे

जितनी भी मुश्किल में हूँ आसान कर देगा मुझे

वो मुझ से अपना पता पूछने को निकले

कि जिन से मैं ने ख़ुद अपना सुराग़ पाया था

वो चेहरा हाथ में ले कर किताब की सूरत

हर एक लफ़्ज़ हर इक नक़्श की अदा देखूँ

'ज़फ़र' ज़मीं-ज़ाद थे ज़मीं से ही काम रक्खा

जो आसमानी थे आसमानों में रह गए हैं

वो सूरत देख ली हम ने तो फिर कुछ भी देखा

अभी वर्ना पड़ी थी एक दुनिया देखने को

मैं ज़ियादा हूँ बहुत उस के लिए अब तक भी

और मेरे लिए वो सारे का सारा कम है

करता हूँ नींद में ही सफ़र सारे शहर का

फ़ारिग़ तो बैठता नहीं सोने के बावजूद

आज कल उस की तरह हम भी हैं ख़ाली ख़ाली

एक दो दिन उसे कहियो कि यहाँ रह जाए

अपनी ये शान-ए-बग़ावत कोई देखे कर

मुँह से इंकार भी है और सर भी झुकाए हुए हैं

ये हम जो पेट से ही सोचते हैं शाम सहर

कभी तो जाएँगे इस दाल-भात से आगे

जिसे अब तक तलाश करता हूँ

गुम-शुदा एक याद है मुझ में