बेनियाज़ी शायरी

बे-नियाज़ या बे-परवाह होना जैसे आशिक़ के जज़्बात की कोई ख़बर ही न हो माशूक़ की अदाओं में शुमार होता है। यह अदा इतनी जान- लेवा होती है कि आशिक़ के गिले शिकवे कभी ख़त्म होने का नाम नहीं लेते। यही बे-नियाज़ी सन्तों, सूफियों और फक़ीरों में भी होती है जो कभी कभी किसी शायर के जिस्म में भी बिराजमान होते हैं। बे-नियाज़ी शायरी ऐसे तमाम जज़्बों और रवैय्यों को ज़बान देती है। हाज़िर हैं चंद नमूने आपके लिए भी।

ये अदा-ए-बे-नियाज़ी तुझे बेवफ़ा मुबारक

मगर ऐसी बे-रुख़ी क्या कि सलाम तक पहुँचे

शकील बदायुनी

बे-नियाज़ी हद से गुज़री बंदा-परवर कब तलक

हम कहेंगे हाल-ए-दिल और आप फ़रमावेंगे क्या

All bounds, your callousness exceeds, do tell me until when

My feelings I keep pouring out, your asking me what then?

मिर्ज़ा ग़ालिब

मुझे अब देखती है ज़िंदगी यूँ बे-नियाज़ाना

कि जैसे पूछती हो कौन हो तुम जुस्तुजू क्या है

अख़्तर सईद ख़ान

आशिक़ों की ख़स्तगी बद-हाली की पर्वा नहीं

सरापा नाज़ तू ने बे-नियाज़ी ख़ूब की

मीर तक़ी मीर

क्या आज-कल से उस की ये बे-तवज्जोही है

मुँह उन ने इस तरफ़ से फेरा है 'मीर' कब का

मीर तक़ी मीर

सारी दुनिया से बे-नियाज़ी है

वाह मस्त-ए-नाज़ क्या कहना

असर सहबाई

संबंधित विषय