Shakeel Badayuni's Photo'

शकील बदायुनी

1916 - 1970 | मुंबई, भारत

प्रसिद्ध फ़िल्म गीतकार और शायर

प्रसिद्ध फ़िल्म गीतकार और शायर

ग़ज़ल 129

नज़्म 8

शेर 86

मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

जाने क्यूँ आज तिरे नाम पे रोना आया

Love your sad conclusion makes me weep

Wonder why your mention makes me weep

Love your sad conclusion makes me weep

Wonder why your mention makes me weep

अब तो ख़ुशी का ग़म है ग़म की ख़ुशी मुझे

बे-हिस बना चुकी है बहुत ज़िंदगी मुझे

जाने वाले से मुलाक़ात होने पाई

दिल की दिल में ही रही बात होने पाई

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 16

धरती को आकाश पुकारे

 

1961

Kalam-e-Shakeel Badayuni

 

2002

Kulliyat-e-Shakeel

 

 

Kulliyat-e-Shakeel

 

 

Kulliyat-e-Shakeel Badayuni

 

2006

Naghma-e-Firdaus

 

1948

Naghma-e-Firdaus

 

1968

Raanaiyan

 

 

रंगीनियाँ

 

 

रंगीनियाँ

 

 

चित्र शायरी 16

वीडियो 52

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Shanti Hiranandji singing 'door hai manzil'

शांति हीरानंद

Teri Mehfil Mein - Qawwali - Madhubala - Mughal-E-Azam - Lata - Shamshad Begum

आँख से आँख मिलाता है कोई

लता मंगेशकर

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इक शहंशाह ने बनवा के....

इक शहंशाह ने बनवा के हसीं ताज-महल अज्ञात

इस दर्जा बद-गुमाँ हैं ख़ुलूस-ए-बशर से हम

बेगम अख़्तर

ऐ इश्क़ ये सब दुनिया वाले बे-कार की बातें करते हैं

लता मंगेशकर

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

बेगम अख़्तर

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

शांति हीरानंद

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

बरकत अली ख़ाँ

कैसे कह दूँ की मुलाक़ात नहीं होती है

पंकज उदास

कोई आरज़ू नहीं है कोई मुद्दआ' नहीं है

तलअत महमूद

ख़ुश हूँ कि मिरा हुस्न-ए-तलब काम तो आया

बेगम अख़्तर

ज़िंदगी उन की चाह में गुज़री

उस्ताद मोहन ख़ान

ज़िंदगी का दर्द ले कर इंक़लाब आया तो क्या

बेगम अख़्तर

तक़दीर की गर्दिश क्या कम थी इस पर ये क़यामत कर बैठे

लता मंगेशकर

तिरी अंजुमन में ज़ालिम अजब एहतिमाम देखा

मुन्नी बेगम

नज़र-नवाज़ नज़ारों में जी नहीं लगता

शांति हीरानंद

बहार आई किसी का सामना करने का वक़्त आया

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

शांति हीरानंद

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

बेगम अख़्तर

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

रीता गांगुली

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

मुन्नी बेगम

रौशनी साया-ए-ज़ुल्मात से आगे न बढ़ी

तलअत महमूद

शायद आग़ाज़ हुआ फिर किसी अफ़्साने का

कुसुम शर्मा

हंगामा-ए-ग़म से तंग आ कर इज़हार-ए-मसर्रत कर बैठे

तलअत महमूद

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

राधिका चोपड़ा

मिरी ज़िंदगी है ज़ालिम तिरे ग़म से आश्कारा

पीनाज़ मसानी

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया

टीना सानी

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

अनीता सिंघवी

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

शोभा गुर्टू

ऑडियो 52

अब तक शिकायतें हैं दिल-ए-बद-नसीब से

अभी जज़्बा-ए-शौक़ कामिल नहीं है

आज फिर गर्दिश-ए-तक़दीर पे रोना आया

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • तनवीर नक़वी तनवीर नक़वी समकालीन
  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री समकालीन
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़ समकालीन
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी समकालीन

"मुंबई" के और शायर

  • अख़्तर-उल-ईमान अख़्तर-उल-ईमान
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर
  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री
  • कैफ़ी आज़मी कैफ़ी आज़मी
  • मजरूह सुल्तानपुरी मजरूह सुल्तानपुरी
  • मीराजी मीराजी
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी
  • क़ैसर-उल जाफ़री क़ैसर-उल जाफ़री
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • नौशाद अली नौशाद अली

Added to your favorites

Removed from your favorites