Jagdish Sahay Saxena's Photo'

जगदीश सहाय सक्सेना

शाहजहाँपुर, भारत

ग़ज़ल 4

 

शेर 5

उल्फ़त की थीं दलील तिरी बद-गुमानियाँ

अब बद-गुमान मैं हूँ कि तू बद-गुमाँ नहीं

हुई थी इक ख़ता सरज़द सो उस को मुद्दतें गुज़रीं

मगर अब तक मिरे दिल से पशेमानी नहीं जाती

है ये तक़दीर की ख़ूबी कि निगाह-ए-मुश्ताक़

पर्दा बन जाए अगर पर्दा-नशीं तक पहुँचे

पुस्तकें 1

आब-ओ-रंग

 

1974

 

"शाहजहाँपुर" के और शायर

  • पंडित जगमोहन नाथ रैना शौक़ पंडित जगमोहन नाथ रैना शौक़
  • रौनक़ रज़ा रौनक़ रज़ा
  • दिल शाहजहाँपुरी दिल शाहजहाँपुरी
  • सिराज फ़ैसल ख़ान सिराज फ़ैसल ख़ान
  • सय्यदा शान-ए-मेराज सय्यदा शान-ए-मेराज
  • रशीद शाहजहाँपुरी रशीद शाहजहाँपुरी
  • नसीम शाहजहाँपुरी नसीम शाहजहाँपुरी
  • रविश सिद्दीक़ी रविश सिद्दीक़ी
  • ताहिर तिलहरी ताहिर तिलहरी
  • साजिद सफ़दर साजिद सफ़दर