Premchand's Photo'

Premchand

1880 - 1936 | Banaras, India

Premchand

Short story 63

Article 13

Quote 31

दौलत से आदमी को जो इज़्ज़त मिलती है वह उसकी नहीं, उसकी दौलत की इज़्ज़त होती है।

  • Share this

मैं एक मज़दूर हूँ, जिस दिन कुछ लिख लूँ उस दिन मुझे रोटी खाने का कोई हक़ नहीं।

  • Share this

सोने और खाने का नाम ज़िंदगी नहीं है। आगे बढ़ते रहने की लगन का नाम ज़िंदगी है।

  • Share this

मायूसी मुम्किन को भी ना-मुम्किन बना देती है।

  • Share this

शायरी का आला-तरीन फ़र्ज़ इन्सान को बेहतर बनाना है।

  • Share this

BOOKS 252

RELATED Blog

 

RELATED Authors

More Authors From "Banaras"

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Speak Now