Aasi uldani's Photo'

आसी उल्दनी

1893 - 1946 | लखनऊ, भारत

लखनऊ के लोकप्रिय शायर और विद्वान, दाग़ और नातिक़ गुलावठी के शागिर्द. ग़ालिब और हाफ़िज़ के कलम की व्याख्यान की और अनुवाद किया. इसके अलावा उर्दू की क़दीम शायरात (प्राचीन कवयित्रियों) का तज़्किरा भी सम्पादित किया

लखनऊ के लोकप्रिय शायर और विद्वान, दाग़ और नातिक़ गुलावठी के शागिर्द. ग़ालिब और हाफ़िज़ के कलम की व्याख्यान की और अनुवाद किया. इसके अलावा उर्दू की क़दीम शायरात (प्राचीन कवयित्रियों) का तज़्किरा भी सम्पादित किया

ग़ज़ल 3

 

शेर 7

अपनी हालत का ख़ुद एहसास नहीं है मुझ को

मैं ने औरों से सुना है कि परेशान हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

कहते हैं कि उम्मीद पे जीता है ज़माना

वो क्या करे जिस को कोई उम्मीद नहीं हो

  • शेयर कीजिए

इश्क़ पाबंद-ए-वफ़ा है कि पाबंद-ए-रुसूम

सर झुकाने को नहीं कहते हैं सज्दा करना

love is known by faithfulness and not by rituals bound

just bowing of one's head is not

  • शेयर कीजिए

रुबाई 3

 

पुस्तकें 31

Aqwal-e-Akbar

 

 

Basair

 

 

दीवान-ए-ख़्वाजा मीर दर्द

दीवान-ए-उर्दू

1951

दीवान-ए-उर्दू ख़्वाजा मीर दर्द

 

1928

Do Nayab Zamana Bayazein

 

1942

Gulistan-e-Mutarjam

 

 

कुल्लियात-ए-मीर

 

1941

कुल्लियात-ए-नज़ीर

 

1951

Kulliyat-e-Nazeer Akbarabadi

 

1951

कुल्लियात-ए-सौदा

खण्ड-001

1932

चित्र शायरी 2

अपनी हालत का ख़ुद एहसास नहीं है मुझ को मैं ने औरों से सुना है कि परेशान हूँ मैं

अपनी हालत का ख़ुद एहसास नहीं है मुझ को मैं ने औरों से सुना है कि परेशान हूँ मैं

 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • मीर हसन मीर हसन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • मीर अनीस मीर अनीस
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी