Aziz Bano Darab Wafa's Photo'

अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा

1926 - 2005 | लखनऊ, भारत

लखनऊ की प्रतिष्ठित शायरा जिन्होंने अपनी अभिव्यक्ति में स्त्रीत्व को जगह दी

लखनऊ की प्रतिष्ठित शायरा जिन्होंने अपनी अभिव्यक्ति में स्त्रीत्व को जगह दी

ग़ज़ल 32

शेर 75

चराग़ बन के जली थी मैं जिस की महफ़िल में

उसे रुला तो गया कम से कम धुआँ मेरा

  • शेयर कीजिए

मैं ने ये सोच के बोए नहीं ख़्वाबों के दरख़्त

कौन जंगल में उगे पेड़ को पानी देगा

एक मुद्दत से ख़यालों में बसा है जो शख़्स

ग़ौर करते हैं तो उस का कोई चेहरा भी नहीं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Goonj

 

2009

 

चित्र शायरी 1

तमाम उम्र किसी और नाम से मुझ को पुकारता रहा इक अजनबी ज़बान में वो

 

ऑडियो 9

अपनी बीती हुई रंगीन जवानी देगा

अलावा इक चुभन के क्या है ख़ुद से राब्ता मेरा

एक दिए ने सदियों क्या क्या देखा है बतलाए कौन

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • मीर अनीस मीर अनीस
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • रिन्द लखनवी रिन्द लखनवी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी