noImage

ऐश देहलवी

1779 - 1874 | दिल्ली, भारत

ग़ालिब की गज़लों के आलोचक

ग़ालिब की गज़लों के आलोचक

ऐश देहलवी

ग़ज़ल 16

अशआर 5

सीने में इक खटक सी है और बस

हम नहीं जानते कि क्या है दिल

  • शेयर कीजिए

कलाम-ए-मीर समझे और ज़बान-ए-मीरज़ा समझे

मगर उन का कहा ये आप समझें या ख़ुदा समझे

  • शेयर कीजिए

शम्अ सुब्ह होती है रोती है किस लिए

थोड़ी सी रह गई है इसे भी गुज़ार दे

  • शेयर कीजिए

बे-सबाती चमन-ए-दहर की है जिन पे खुली

हवस-ए-रंग वो ख़्वाहिश-ए-बू करते हैं

  • शेयर कीजिए

मैं बुरा ही सही भला सही

पर तिरी कौन सी जफ़ा सही

क़ितआ 1

 

पुस्तकें 1

 

ऑडियो 7

आशिक़ों को ऐ फ़लक देवेगा तू आज़ार क्या

क्या हुए आशिक़ उस शकर-लब के

जुरअत ऐ दिल मय ओ मीना है वो ख़ुद-काम भी है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए