Alok Mishra's Photo'

आलोक मिश्रा

1985 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 25

शेर 13

सब सितारे दिलासा देते हैं

चाँद रातों को चीख़ता है बहुत

क्या ज़रूरत है मुझ को चेहरे की

कौन चेहरे से जानता है मुझे

  • शेयर कीजिए

जब से देखा है ख़्वाब में उस को

दिल मुसलसल किसी सफ़र में है

वीडियो 6

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Bujhti aankhon mein tere khwab ka bosa rakha

आलोक मिश्रा

Hum musalsal ek bayaan dete huye

आलोक मिश्रा

Jaane kis baat se dukha hai bahut

आलोक मिश्रा

Jazb kuch titliyon ke par mein hai

आलोक मिश्रा

Wo be asar musalsal zalil karte huye

आलोक मिश्रा

साल ये कौन सा नया है मुझे

आलोक मिश्रा

ऑडियो 6

चीख़ की ओर मैं खिंचा जाऊँ

जज़्ब कुछ तितलियों के पर में है

जाने किस बात से दुखा है बहुत

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • पल्लव मिश्रा पल्लव मिश्रा समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • सरफ़राज़ ख़ालिद सरफ़राज़ ख़ालिद
  • आज़िम कोहली आज़िम कोहली
  • अज़हर गौरी अज़हर गौरी
  • अशहर हाशमी अशहर हाशमी
  • शीस मोहम्मद इस्माईल आज़मी शीस मोहम्मद इस्माईल आज़मी
  • ज़फ़र अनवर ज़फ़र अनवर
  • मुग़ल फ़ारूक़ परवाज़ मुग़ल फ़ारूक़ परवाज़
  • मोहम्मद अली तिशना मोहम्मद अली तिशना
  • सालिम सलीम सालिम सलीम
  • तरकश प्रदीप तरकश प्रदीप