Azhar Inayati's Photo'

अज़हर इनायती

1946 | रामपुर, भारत

रामपूर स्कूल के प्रमुख शायर/ महशर इनायती के शागिर्द

रामपूर स्कूल के प्रमुख शायर/ महशर इनायती के शागिर्द

2.7K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हर एक रात को महताब देखने के लिए

मैं जागता हूँ तिरा ख़्वाब देखने के लिए

ये और बात कि आँधी हमारे बस में नहीं

मगर चराग़ जलाना तो इख़्तियार में है

वो ताज़ा-दम हैं नए शो'बदे दिखाते हुए

अवाम थकने लगे तालियाँ बजाते हुए

अपनी तस्वीर बनाओगे तो होगा एहसास

कितना दुश्वार है ख़ुद को कोई चेहरा देना

किसी के ऐब छुपाना सवाब है लेकिन

कभी कभी कोई पर्दा उठाना पड़ता है

कभी क़रीब कभी दूर हो के रोते हैं

मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं

अजब जुनून है ये इंतिक़ाम का जज़्बा

शिकस्त खा के वो पानी में ज़हर डाल आया

ग़ज़ल का शेर तो होता है बस किसी के लिए

मगर सितम है कि सब को सुनाना पड़ता है

ख़ुद-कुशी के लिए थोड़ा सा ये काफ़ी है मगर

ज़िंदा रहने को बहुत ज़हर पिया जाता है

रास्तो क्या हुए वो लोग कि आते-जाते

मेरे आदाब पे कहते थे कि जीते रहिए

वो तड़प जाए इशारा कोई ऐसा देना

उस को ख़त लिखना तो मेरा भी हवाला देना

सँभल के चलने का सारा ग़ुरूर टूट गया

इक ऐसी बात कही उस ने लड़खड़ाते हुए

इस रास्ते में जब कोई साया पाएगा

ये आख़िरी दरख़्त बहुत याद आएगा

हुआ उजाला तो हम उन के नाम भूल गए

जो बुझ गए हैं चराग़ों की लौ बढ़ाते हुए

ख़ुद अपने पाँव भी लोगों ने कर लिए ज़ख़्मी

हमारी राह में काँटे यहाँ बिछाते हुए

ये अलग बात कि मैं नूह नहीं था लेकिन

मैं ने कश्ती को ग़लत सम्त में बहने दिया

लोग यूँ कहते हैं अपने क़िस्से

जैसे वो शाह-जहाँ थे पहले

ये भी रहा है कूचा-ए-जानाँ में अपना रंग

आहट हुई तो चाँद दरीचे में गया

तमाम-शहर में किस तरह चाँदनी फैली

कि माहताब तो कल रात मेरे घर में था

मेरी ख़ामोशी पे थे जो तअना-ज़न

शोर में अपने ही बहरे हो गए

पलट चलें कि ग़लत गए हमीं शायद

रईस लोगों से मिलने के वक़्त होते हैं

ये मस्ख़रों को वज़ीफ़े यूँही नहीं मिलते

रईस ख़ुद नहीं हँसते हँसाना पड़ता है

आज शहरों में हैं जितने ख़तरे

जंगलों में भी कहाँ थे पहले

पुराने अहद में भी दुश्मनी थी

मगर माहौल ज़हरीला नहीं था

अपने आँचल में छुपा कर मिरे आँसू ले जा

याद रखने को मुलाक़ात के जुगनू ले जा

मुझ को भी जागने की अज़िय्यत से दे नजात

रात अब तो घर के दर-ओ-बाम सो गए

वो जिस के सेहन में कोई गुलाब खिल सका

तमाम शहर के बच्चों से प्यार करता था

शिकस्तगी में भी क्या शान है इमारत की

कि देखने को इसे सर उठाना पड़ता है

नया ख़ूँ रगों में रवाँ कर दिया

ग़ज़ल हम ने तुझ को जवाँ कर दिया

जहाँ ज़िदें किया करता था बचपना मेरा

कहाँ से लाऊँ खिलौनों की उन दुकानों को

आज भी शाम-ए-ग़म! उदास हो

माँग कर मैं चराग़ लाता हूँ

चौराहों का तो हुस्न बढ़ा शहर के मगर

जो लोग नामवर थे वो पत्थर के हो गए

जवानों में तसादुम कैसे रुकता

क़बीले में कोई बूढ़ा नहीं था

नक़्श मिटते हैं तो आता है ख़याल

रेत पर हम भी कहाँ थे पहले

हम-अस्रों में ये छेड़ चली आई है 'अज़हर'

याँ 'ज़ौक़' ने 'ग़ालिब' को भी ग़ालिब नहीं समझा

मैं जिसे ढूँडने निकला था उसे पा सका

अब जिधर जी तिरा चाहे मुझे ख़ुश्बू ले जा

जवान हो गई इक नस्ल सुनते सुनते ग़ज़ल

हम और हो गए बूढ़े ग़ज़ल सुनाते हुए

घर से किस तरह मैं निकलूँ कि ये मद्धम सा चराग़

मैं नहीं हूँगा तो तन्हाई में बुझ जाएगा

उन के भी अपने ख़्वाब थे अपनी ज़रूरतें

हम-साए का मगर वो गला काटते रहे

तमाम शहर से बद-ज़न करा दिया शह को

मुसाहिबों का ख़ुदा जाने था इरादा क्या

इस कार-ए-आगही को जुनूँ कह रहे हैं लोग

महफ़ूज़ कर रहे हैं फ़ज़ा में सदाएँ हम

करने को रौशनी के तआक़ुब का तजरबा

कुछ दूर मेरे साथ भी परछाइयाँ गईं

सब देख कर गुज़र गए इक पल में और हम

दीवार पर बने हुए मंज़र में खो गए

तारीख़ भी हूँ उतने बरस की मोअर्रिख़ो

चेहरे पे मेरे जितने बरस की ये गर्द है

क्या रह गया है शहर में खंडरात के सिवा

क्या देखने को अब यहाँ आए हुए हैं लोग

अब मिरे ब'अद कोई सर भी नहीं होगा तुलू'अ

अब किसी सम्त से पत्थर भी नहीं आएगा