ग़ज़ल 13

शेर 19

शहर गुम-सुम रास्ते सुनसान घर ख़ामोश हैं

क्या बला उतरी है क्यूँ दीवार-ओ-दर ख़ामोश हैं

दिल कुछ देर मचलता है फिर यादों में यूँ खो जाता है

जैसे कोई ज़िद्दी बच्चा रोते रोते सो जाता है

ख़ौफ़ ऐसा है कि हम बंद मकानों में भी

सोने वालों की हिफ़ाज़त के लिए जागते हैं

पुस्तकें 1

Sukhan-e-Tamam

 

 

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • ज़ाहिद इमरोज़ ज़ाहिद इमरोज़
  • सय्यद मुनीर सय्यद मुनीर
  • शमशीर हैदर शमशीर हैदर
  • मोहम्मद अब्दुलहमीद सिद्दीक़ी नज़र लखनवी मोहम्मद अब्दुलहमीद सिद्दीक़ी नज़र लखनवी
  • तबस्सुम ज़िया तबस्सुम ज़िया
  • अली यासिर अली यासिर
  • रहमतुल्लाह ख़ाँ रहमतुल्लाह ख़ाँ
  • आतिर अली सय्यद आतिर अली सय्यद
  • मंसूरा अहमद मंसूरा अहमद
  • नादिया अंबर लोधी नादिया अंबर लोधी