noImage

बेगम लखनवी

1785 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 1

 

शेर 1

कुछ बे-अदबी और शब-ए-वस्ल नहीं की

हाँ यार के रुख़्सार पे रुख़्सार तो रक्खा

 

संबंधित शायर

  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर पिता

"लखनऊ" के और शायर

  • शारिब लखनवी शारिब लखनवी
  • मुश्ताक़ नक़वी मुश्ताक़ नक़वी
  • जावेद लख़नवी जावेद लख़नवी
  • आसिफ़ा ज़मानी आसिफ़ा ज़मानी
  • औलाद अली रिज़वी औलाद अली रिज़वी
  • सय्यद अली मियाँ कामिल सय्यद अली मियाँ कामिल
  • मन्नू लाल सफ़ा लखनवी मन्नू लाल सफ़ा लखनवी
  • रबाब रशीदी रबाब रशीदी
  • हिना रिज़्वी हिना रिज़्वी
  • हैदर अली ख़ान हैदर अली ख़ान