Divakar Rahi's Photo'

दिवाकर राही

रामपुर, भारत

ग़ज़ल 4

 

शेर 15

अब तो उतनी भी मयस्सर नहीं मय-ख़ाने में

जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में

the tavern does not even give that much wine to me

that I was wont to waste in the goblet casually

the tavern does not even give that much wine to me

that I was wont to waste in the goblet casually

  • शेयर कीजिए

वक़्त बर्बाद करने वालों को

वक़्त बर्बाद कर के छोड़ेगा

  • शेयर कीजिए

अगर मौजें डुबो देतीं तो कुछ तस्कीन हो जाती

किनारों ने डुबोया है मुझे इस बात का ग़म है

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 4

Charagh-e-Manzil

 

1981

Charagh-e-Manzil

 

1981

मंज़िल की तरफ़

मजमूअ-ए-कलाम

 

Sad Chak

 

1985

 

चित्र शायरी 2

अब तो उतनी भी मयस्सर नहीं मय-ख़ाने में जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में

अब तो उतनी भी मयस्सर नहीं मय-ख़ाने में जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में

 

"रामपुर" के और शायर

  • गुलज़ार गुलज़ार
  • ज़िया ज़मीर ज़िया ज़मीर
  • स्वप्निल तिवारी स्वप्निल तिवारी
  • शकील जमाली शकील जमाली
  • पॉपुलर मेरठी पॉपुलर मेरठी
  • मतीन नियाज़ी मतीन नियाज़ी
  • मनीश शुक्ला मनीश शुक्ला
  • आलोक मिश्रा आलोक मिश्रा
  • सालिम सलीम सालिम सलीम
  • पवन कुमार पवन कुमार