Ejaz Rahmani's Photo'

एजाज़ रहमानी

1936 - 2019 | कराची, पाकिस्तान

ग़ज़ल 11

शेर 6

अभी से पाँव के छाले देखो

अभी यारो सफ़र की इब्तिदा है

  • शेयर कीजिए

तालाब तो बरसात में हो जाते हैं कम-ज़र्फ़

बाहर कभी आपे से समुंदर नहीं होता

  • शेयर कीजिए

वो एक पल की रिफ़ाक़त भी क्या रिफ़ाक़त थी

जो दे गई है मुझे उम्र भर की तन्हाई

  • शेयर कीजिए

फ़ितरत के तक़ाज़े कभी बदले नहीं जाते

ख़ुश्बू है अगर वो तो बिखरना ही पड़ेगा

गुज़र रहा हूँ मैं सौदा-गरों की बस्ती से

बदन पे देखिए कब तक लिबास रहता है

चित्र शायरी 1

अभी से पाँव के छाले न देखो अभी यारो सफ़र की इब्तिदा है

 

संबंधित शायर

  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी गुरु
  • मुज़फ़्फ़र वारसी मुज़फ़्फ़र वारसी समकालीन
  • किश्वर नाहीद किश्वर नाहीद समकालीन

"कराची" के और शायर

  • ज़ीशान साहिल ज़ीशान साहिल
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • मोहसिन एहसान मोहसिन एहसान
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • दिलावर फ़िगार दिलावर फ़िगार
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • जमाल एहसानी जमाल एहसानी