noImage

फ़ैज़ लुधियानवी

1911 - 1995 | लाहौर, पाकिस्तान

शेर 3

तू नया है तो दिखा सुब्ह नई शाम नई

वर्ना इन आँखों ने देखे हैं नए साल कई

  • शेयर कीजिए

अक़्ल गुम है दिल परेशाँ है नज़र बेताब है

जुस्तुजू से भी नहीं मिलता सुराग़-ए-ज़ि़ंदगी

  • शेयर कीजिए

ग़रीबी किस बला का नाम है उन की बला जाने

ख़ुदा है जिन की दौलत जिन का शेवा ज़र-परस्ती है

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 3

Bachon Ki Bahar

 

1941

Das Nazmein

 

1940

Qeemti Batein

 

1940

 

"लाहौर" के और शायर

  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील
  • सैफ़ुद्दीन सैफ़ सैफ़ुद्दीन सैफ़
  • मुज़फ़्फ़र वारसी मुज़फ़्फ़र वारसी
  • ज़हीर काश्मीरी ज़हीर काश्मीरी
  • अदीम हाशमी अदीम हाशमी
  • इक़बाल साजिद इक़बाल साजिद
  • शाहीन अब्बास शाहीन अब्बास