Saifuddin Saif's Photo'

सैफ़ुद्दीन सैफ़

1922 - 1993 | लाहौर, पाकिस्तान

पाकिस्तानी शायर और गीतकार

पाकिस्तानी शायर और गीतकार

सैफ़ुद्दीन सैफ़

ग़ज़ल 45

शेर 39

शोर दिन को नहीं सोने देता

शब को सन्नाटा जगा देता है

थकी थकी सी फ़ज़ाएँ बुझे बुझे तारे

बड़ी उदास घड़ी है ज़रा ठहर जाओ

'सैफ़' अंदाज़-ए-बयाँ रंग बदल देता है

वर्ना दुनिया में कोई बात नई बात नहीं

  • शेयर कीजिए

ऐसे लम्हे भी गुज़ारे हैं तिरी फ़ुर्क़त में

जब तिरी याद भी इस दिल पे गिराँ गुज़री है

तुम को बेगाने भी अपनाते हैं मैं जानता हूँ

मेरे अपने भी पराए हैं तुम्हें क्या मालूम

पुस्तकें 2

Kham-e-Kakul

 

 

Nida-e-Saif

 

1995

 

चित्र शायरी 1

चाँदनी रात बड़ी देर के बा'द आई है लब पे इक बात बड़ी देर के बा'द आई है झूम कर आज ये शब-रंग लटें बिखरा दे देख बरसात बड़ी देर के बा'द आई है दिल-ए-मजरूह की उजड़ी हुई ख़ामोशी से बू-ए-नग़्मात बड़ी देर के बा'द आई है आज की रात वो आए हैं बड़ी देर के बा'द आज की रात बड़ी देर के बा'द आई है आह तस्कीन भी अब 'सैफ़' शब-ए-हिज्राँ में अक्सर औक़ात बड़ी देर के बा'द आई है

 

वीडियो 11

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

सैफ़ुद्दीन सैफ़

सैफ़ुद्दीन सैफ़

सैफ़ुद्दीन सैफ़

क़ज़ा का वक़्त रुख़्सत की घड़ी है

सैफ़ुद्दीन सैफ़

क़रीब मौत खड़ी है ज़रा ठहर जाओ

सैफ़ुद्दीन सैफ़

ऑडियो 11

क़रीब मौत खड़ी है ज़रा ठहर जाओ

आए थे उन के साथ नज़ारे चले गए

खोया पाने वालों ने

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"लाहौर" के और शायर

  • शहज़ाद अहमद शहज़ाद अहमद
  • ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र इक़बाल
  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • एहसान दानिश एहसान दानिश
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील
  • अहमद नदीम क़ासमी अहमद नदीम क़ासमी