Ghalib Ayaz's Photo'

ग़ालिब अयाज़

1981 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 8

शेर 7

भले ही छाँव दे आसरा तो देता है

ये आरज़ू का शजर है ख़िज़ाँ-रसीदा सही

हवा के होंट खुलें साअत-ए-कलाम तो आए

ये रेत जैसा बदन आँधियों के काम तो आए

ज़िंदगानी में सभी रंग थे महरूमी के

तुझ को देखा तो मैं एहसास-ए-ज़ियाँ से निकला

ई-पुस्तक 1

Dasht Mein Kati Hui Raten

 

 

 

संबंधित शायर

  • मोहम्मद अहमद मोहम्मद अहमद समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • सरफ़राज़ ख़ालिद सरफ़राज़ ख़ालिद
  • अशहर हाशमी अशहर हाशमी
  • अबरार किरतपुरी अबरार किरतपुरी
  • शीस मोहम्मद इस्माईल आज़मी शीस मोहम्मद इस्माईल आज़मी
  • ज़फ़र अनवर ज़फ़र अनवर
  • मोहम्मद अली तिशना मोहम्मद अली तिशना
  • मुग़ल फ़ारूक़ परवाज़ मुग़ल फ़ारूक़ परवाज़
  • अज़हर गौरी अज़हर गौरी
  • आज़िम कोहली आज़िम कोहली
  • राग़िब अख़्तर राग़िब अख़्तर