Ghalib Ayaz's Photo'

ग़ालिब अयाज़

1981 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 8

शेर 7

भले ही छाँव दे आसरा तो देता है

ये आरज़ू का शजर है ख़िज़ाँ-रसीदा सही

हवा के होंट खुलें साअत-ए-कलाम तो आए

ये रेत जैसा बदन आँधियों के काम तो आए

तमाम उम्र उसे चाहना था मुमकिन

कभी कभी तो वो इस दिल पे बार बन के रहा

पुस्तकें 1

Dasht Mein Kati Hui Raten

 

 

 

संबंधित शायर

  • मोहम्मद अहमद मोहम्मद अहमद समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन