Hashim Raza Jalalpuri's Photo'

हाशिम रज़ा जलालपुरी

1987 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 29

शेर 5

गरेबाँ चाक, धुआँ, जाम, हाथ में सिगरेट

शब-ए-फ़िराक़, अजब हाल में पड़ा हुआ हूँ

महफ़िल में लोग चौंक पड़े मेरे नाम पर

तुम मुस्कुरा दिए मिरी क़ीमत यही तो है

सारी रुस्वाई ज़माने की गवारा कर के

ज़िंदगी जीते हैं कुछ लोग ख़सारा कर के

हम से आबाद है ये शेर-ओ-सुख़न की महफ़िल

हम तो मर जाएँगे लफ़्ज़ों से किनारा कर के

हम बे-नियाज़ बैठे हुए उन की बज़्म में

औरों की बंदगी का असर देखते रहे

  • शेयर कीजिए

"दिल्ली" के और शायर

  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • अनीसुर्रहमान अनीसुर्रहमान
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र