ग़ज़ल 4

 

शेर 4

आह ये बरसात का मौसम ये ज़ख़्मों की बहार

हो गया है ख़ून-ए-दिल आँखों से जारी इन दिनों

निगाह-ए-शौक़ अगर दिल की तर्जुमाँ हो जाए

तो ज़र्रा ज़र्रा मोहब्बत का राज़-दाँ हो जाए

चमन वही है घटाएँ वही बहार वही

मगर गुलों में वो अब रंग-ओ-बू नहीं बाक़ी

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • मीर हसन मीर हसन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • मीर अनीस मीर अनीस
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़