Josh Malihabadi's Photo'

जोश मलीहाबादी

1898 - 1982 | इस्लामाबाद, पाकिस्तान

सबसे गर्म मिज़ाज प्रगतिशील शायर जिन्हें शायर-ए-इंकि़लाब (क्रांति-कवि) कहा जाता है

सबसे गर्म मिज़ाज प्रगतिशील शायर जिन्हें शायर-ए-इंकि़लाब (क्रांति-कवि) कहा जाता है

7K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हद है अपनी तरफ़ नहीं मैं भी

और उन की तरफ़ ख़ुदाई है

कश्ती-ए-मय को हुक्म-ए-रवानी भी भेज दो

जब आग भेज दी है तो पानी भी भेज दो

दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने दिया

जब चली सर्द हवा मैं ने तुझे याद किया

मेरे रोने का जिस में क़िस्सा है

उम्र का बेहतरीन हिस्सा है

एक दिन कह लीजिए जो कुछ है दिल में आप के

एक दिन सुन लीजिए जो कुछ हमारे दिल में है

काम है मेरा तग़य्युर नाम है मेरा शबाब

मेरा ना'रा इंक़िलाब इंक़िलाब इंक़िलाब

मुझ को तो होश नहीं तुम को ख़बर हो शायद

लोग कहते हैं कि तुम ने मुझे बर्बाद किया

उस ने वा'दा किया है आने का

रंग देखो ग़रीब ख़ाने का

इस दिल में तिरे हुस्न की वो जल्वागरी है

जो देखे है कहता है कि शीशे में परी है

वहाँ से है मिरी हिम्मत की इब्तिदा वल्लाह

जो इंतिहा है तिरे सब्र आज़माने की

आड़े आया कोई मुश्किल में

मशवरे दे के हट गए अहबाब

सुबूत है ये मोहब्बत की सादा-लौही का

जब उस ने वादा किया हम ने ए'तिबार किया

किसी का अहद-ए-जवानी में पारसा होना

क़सम ख़ुदा की ये तौहीन है जवानी की

इंसान के लहू को पियो इज़्न-ए-आम है

अंगूर की शराब का पीना हराम है

इस का रोना नहीं क्यूँ तुम ने किया दिल बर्बाद

इस का ग़म है कि बहुत देर में बर्बाद किया

वो करें भी तो किन अल्फ़ाज़ में तेरा शिकवा

जिन को तेरी निगह-ए-लुत्फ़ ने बर्बाद किया

तबस्सुम की सज़ा कितनी कड़ी है

गुलों को खिल के मुरझाना पड़ा है

कोई आया तिरी झलक देखी

कोई बोला सुनी तिरी आवाज़

आप से हम को रंज ही कैसा

मुस्कुरा दीजिए सफ़ाई से

हम गए थे उस से करने शिकवा-ए-दर्द-ए-फ़िराक़

मुस्कुरा कर उस ने देखा सब गिला जाता रहा

हम ऐसे अहल-ए-नज़र को सुबूत-ए-हक़ के लिए

अगर रसूल होते तो सुब्ह काफ़ी थी

गुज़र रहा है इधर से तो मुस्कुराता जा

चराग़-ए-मज्लिस-ए-रुहानियाँ जलाता जा

हाँ आसमान अपनी बुलंदी से होशियार

अब सर उठा रहे हैं किसी आस्ताँ से हम

अब तक ख़बर थी मुझे उजड़े हुए घर की

वो आए तो घर बे-सर-ओ-सामाँ नज़र आया

हर एक काँटे पे सुर्ख़ किरनें हर इक कली में चराग़ रौशन

ख़याल में मुस्कुराने वाले तिरा तबस्सुम कहाँ नहीं है

मिला जो मौक़ा तो रोक दूँगा 'जलाल' रोज़-ए-हिसाब तेरा

पढूँगा रहमत का वो क़सीदा कि हँस पड़ेगा अज़ाब तेरा

सिर्फ़ इतने के लिए आँखें हमें बख़्शी गईं

देखिए दुनिया के मंज़र और ब-इबरत देखिए

बादबाँ नाज़ से लहरा के चली बाद-ए-मुराद

कारवाँ ईद मना क़ाफ़िला-सालार आया

सोज़-ए-ग़म दे के मुझे उस ने ये इरशाद किया

जा तुझे कशमकश-ए-दहर से आज़ाद किया

इधर तेरी मशिय्यत है उधर हिकमत रसूलों की

इलाही आदमी के बाब में क्या हुक्म होता है

अब ख़ुदा इनायत-ए-बेजा से फ़ाएदा

मानूस हो चुके हैं ग़म-ए-जावेदाँ से हम

इतना मानूस हूँ फ़ितरत से कली जब चटकी

झुक के मैं ने ये कहा मुझ से कुछ इरशाद किया?

पहचान गया सैलाब है उस के सीने में अरमानों का

देखा जो सफ़ीने को मेरे जी छूट गया तूफ़ानों का

इक इक ज़ुल्मत से जब वाबस्ता रहना है तो 'जोश'

ज़िंदगी पर साया-ए-ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ क्यूँ हो

अब दिल का सफ़ीना क्या उभरे तूफ़ाँ की हवाएँ साकिन हैं

अब बहर से कश्ती क्या खेले मौजों में कोई गिर्दाब नहीं

जितने गदा-नवाज़ थे कब के गुज़र चुके

अब क्यूँ बिछाए बैठे हैं हम बोरिया पूछ

ज़रा आहिस्ता ले चल कारवान-ए-कैफ़-ओ-मस्ती को

कि सत्ह-ए-ज़ेहन-ए-आलम सख़्त ना-हमवार है साक़ी

दुनिया ने फ़सानों को बख़्शी अफ़्सुर्दा हक़ाएक़ की तल्ख़ी

और हम ने हक़ाएक़ के नक़्शे में रंग भरा अफ़्सानों का

अल्लाह रे हुस्न-ए-दोस्त की आईना-दारियाँ

अहल-ए-नज़र को नक़्श-ब-दीवार कर दिया

महफ़िल-ए-इश्क़ में वो नाज़िश-ए-दौराँ आया

गदा ख़्वाब से बेदार कि सुल्ताँ आया

मिले जो वक़्त तो रह-रव-ए-रह-ए-इक्सीर

हक़ीर ख़ाक से भी साज़-बाज़ करता जा

शबाब-ए-रफ़्ता के क़दम की चाप सुन रहा हूँ मैं

नदीम अहद-ए-शौक़ की सुनाए जा कहानियाँ