Khalid Ahmad's Photo'

ख़ालिद अहमद

1944 - 2013 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 31

शेर 5

तर्क-ए-तअल्लुक़ात पे रोया तू मैं

लेकिन ये क्या कि चैन से सोया तू मैं

वो गली हम से छूटती ही नहीं

क्या करें आस टूटती ही नहीं

  • शेयर कीजिए

फूल से बास जुदा फ़िक्र से एहसास जुदा

फ़र्द से टूट गए फ़र्द क़बीले रहे

क़ुमक़ुमों की तरह क़हक़हे जल बुझे

मेज़ पर चाय की प्यालियाँ रह गईं

क़ुमक़ुमों की तरह क़हक़हे जल बुझे

मेज़ पर चाय की प्यालियाँ रह गईं

पुस्तकें 2

Kachhwe

 

1981

Thanda Meetha Pani

 

1981

 

चित्र शायरी 3

अपने दिल का हाल न कहना कैसा लगता है तुम को अपना चुप चुप रहना कैसा लगता है दुख की बूँदें क्या तुम को भी खाती रहती हैं आहिस्ता आहिस्ता ढहना कैसा लगता है दर्द भरी रातें जिस दम हलकोरे देती हैं दरियाओं के रुख़ पर बहना कैसा लगता है मैं तो अपनी धुन में चकराया सा फिरता हूँ तुम को अपनी मौज में रहना कैसा लगता है क्या तुम भी साहिल की सूरत कटते रहते हो पल पल ग़म की लहरें सहना कैसा लगता है क्या शामें तुम को भी शब भर बे-कल रखती हैं तुम सूरज हो तुम को लहना कैसा लगता है क्या तुम भी गलियों में घर की वुसअत पाते हो तुम को घर से बाहर रहना कैसा लगता है कम-आहंग सुरों में तुम क्या गाते रहते हो कुछ भी न सुनना कुछ भी न कहना कैसा लगता है दर्द तो साँसों में बस्ते हैं कौन दिखाए तुम्हें फूलों पर ख़ुशबू का गहना कैसा लगता है

वो गली हम से छूटती ही नहीं क्या करें आस टूटती ही नहीं

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
खुला मुझ पर दर-ए-इम्कान रखना

ख़ालिद अहमद

तर्क-ए-तअल्लुक़ात पे रोया न तू न मैं

ख़ालिद अहमद

तर्क-ए-तअल्लुक़ात पे रोया न तू न मैं

ख़ालिद अहमद

रब्त किस से था किसे किस का शनासा कौन था

ख़ालिद अहमद

"लाहौर" के और शायर

  • शहज़ाद अहमद शहज़ाद अहमद
  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • अमजद इस्लाम अमजद अमजद इस्लाम अमजद
  • सूफ़ी तबस्सुम सूफ़ी तबस्सुम
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील
  • अहमद नदीम क़ासमी अहमद नदीम क़ासमी
  • साग़र सिद्दीक़ी साग़र सिद्दीक़ी