Kumar Vishwas's Photo'

कुमार विश्वास

1970 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 14

शेर 10

कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है

मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है

  • शेयर कीजिए

उसी की तरह मुझे सारा ज़माना चाहे

वो मिरा होने से ज़्यादा मुझे पाना चाहे

दिल के तमाम ज़ख़्म तिरी हाँ से भर गए

जितने कठिन थे रास्ते वो सब गुज़र गए

  • शेयर कीजिए

संबंधित शायर

  • कुंवर बेचैन कुंवर बेचैन गुरु

"दिल्ली" के और शायर

  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन