ग़ज़ल 5

 

शेर 5

लोग नफ़रत की फ़ज़ाओं में भी जी लेते हैं

हम मोहब्बत की हवा से भी डरा करते हैं

क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई

जो हँस रहे थे उन को रुलाती चली गई

जिसे पढ़ा नहीं तुम ने कभी मोहब्बत से

किताब-ए-ज़ीस्त का वो बाब हैं मिरे आँसू

पुस्तकें 1

Lata Se Haya Tak

 

2013

 

"मुंबई" के और शायर

  • अख़्तरुल ईमान अख़्तरुल ईमान
  • जावेद अख़्तर जावेद अख़्तर
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • क़ैसर-उल जाफ़री क़ैसर-उल जाफ़री
  • कैफ़ी आज़मी कैफ़ी आज़मी