ग़ज़ल 5

 

शेर 5

लोग नफ़रत की फ़ज़ाओं में भी जी लेते हैं

हम मोहब्बत की हवा से भी डरा करते हैं

क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई

जो हँस रहे थे उन को रुलाती चली गई

जिसे पढ़ा नहीं तुम ने कभी मोहब्बत से

किताब-ए-ज़ीस्त का वो बाब हैं मिरे आँसू

पुस्तकें 1

Lata Se Haya Tak

 

2013

 

"मुंबई" के और शायर

  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर
  • अख़्तर आज़ाद अख़्तर आज़ाद
  • शाहिदा लतीफ़ शाहिदा लतीफ़
  • साहब अली साहब अली
  • अज़हर हाश्मी अज़हर हाश्मी
  • हसन कमाल हसन कमाल
  • ज़किया शैख़ मीना ज़किया शैख़ मीना
  • निशांत श्रीवास्तव नायाब निशांत श्रीवास्तव नायाब
  • याक़ूब राही याक़ूब राही
  • दर्शिका वसानी दर्शिका वसानी