Muneer Niyazi's Photo'

मुनीर नियाज़ी

1923 - 2006 | लाहौर, पाकिस्तान

पाकिस्तान के आग्रणी आधुनिक शायरों में विख्यात/फि़ल्मों के लिए गीत भी लिखे

पाकिस्तान के आग्रणी आधुनिक शायरों में विख्यात/फि़ल्मों के लिए गीत भी लिखे

किसी को अपने अमल का हिसाब क्या देते

सवाल सारे ग़लत थे जवाब क्या देते

आवाज़ दे के देख लो शायद वो मिल ही जाए

वर्ना ये उम्र भर का सफ़र राएगाँ तो है

अब कौन मुंतज़िर है हमारे लिए वहाँ

शाम गई है लौट के घर जाएँ हम तो क्या

ख़्वाब होते हैं देखने के लिए

उन में जा कर मगर रहा करो

ख़याल जिस का था मुझे ख़याल में मिला मुझे

सवाल का जवाब भी सवाल में मिला मुझे

अपनी ही तेग़-ए-अदा से आप घायल हो गया

चाँद ने पानी में देखा और पागल हो गया

ये कैसा नश्शा है मैं किस अजब ख़ुमार में हूँ

तू के जा भी चुका है मैं इंतिज़ार में हूँ

आदत ही बना ली है तुम ने तो 'मुनीर' अपनी

जिस शहर में भी रहना उकताए हुए रहना

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं

तू ने मुझ को खो दिया मैं ने तुझे खोया नहीं

गई याद शाम ढलते ही

बुझ गया दिल चराग़ जलते ही

शहर की गलियों में गहरी तीरगी गिर्यां रही

रात बादल इस तरह आए कि मैं तो डर गया

मोहब्बत अब नहीं होगी ये कुछ दिन ब'अद में होगी

गुज़र जाएँगे जब ये दिन ये उन की याद में होगी

वो जिस को मैं समझता रहा कामयाब दिन

वो दिन था मेरी उम्र का सब से ख़राब दिन

मुद्दत के ब'अद आज उसे देख कर 'मुनीर'

इक बार दिल तो धड़का मगर फिर सँभल गया

शहर का तब्दील होना शाद रहना और उदास

रौनक़ें जितनी यहाँ हैं औरतों के दम से हैं

कटी है जिस के ख़यालों में उम्र अपनी 'मुनीर'

मज़ा तो जब है कि उस शोख़ को पता ही हो

ख़्वाहिशें हैं घर से बाहर दूर जाने की बहुत

शौक़ लेकिन दिल में वापस लौट कर आने का था

मैं तो 'मुनीर' आईने में ख़ुद को तक कर हैरान हुआ

ये चेहरा कुछ और तरह था पहले किसी ज़माने में

जानता हूँ एक ऐसे शख़्स को मैं भी 'मुनीर'

ग़म से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं

कल मैं ने उस को देखा तो देखा नहीं गया

मुझ से बिछड़ के वो भी बहुत ग़म से चूर था

कोई तो है 'मुनीर' जिसे फ़िक्र है मिरी

ये जान कर अजीब सी हैरत हुई मुझे

वक़्त किस तेज़ी से गुज़रा रोज़-मर्रा में 'मुनीर'

आज कल होता गया और दिन हवा होते गए

इक और दरिया का सामना था 'मुनीर' मुझ को

मैं एक दरिया के पार उतरा तो मैं ने देखा

थके लोगों को मजबूरी में चलते देख लेता हूँ

मैं बस की खिड़कियों से ये तमाशे देख लेता हूँ

तुम मेरे लिए इतने परेशान से क्यूँ हो

मैं डूब भी जाता तो कहीं और उभरता

'मुनीर' इस ख़ूबसूरत ज़िंदगी को

हमेशा एक सा होना नहीं है

अच्छी मिसाल बनतीं ज़ाहिर अगर वो होतीं

इन नेकियों को हम तो दरिया में डाल आए

किसी अकेली शाम की चुप में

गीत पुराने गा के देखो

एक वारिस हमेशा होता है

तख़्त ख़ाली रहा नहीं करता

रहना था उस के साथ बहुत देर तक मगर

इन रोज़ शब में मुझ को ये फ़ुर्सत नहीं मिली

पूछते हैं कि क्या हुआ दिल को

हुस्न वालों की सादगी गई

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं

उस ने व'अदा कर लिया मैं ने भी व'अदा कर लिया

ज़िंदा रहें तो क्या है जो मर जाएँ हम तो क्या

दुनिया से ख़ामुशी से गुज़र जाएँ हम तो क्या

बेचैन बहुत फिरना घबराए हुए रहना

इक आग सी जज़्बों की दहकाए हुए रहना

मकाँ है क़ब्र जिसे लोग ख़ुद बनाते हैं

मैं अपने घर में हूँ या मैं किसी मज़ार में हूँ

मैं उस को देख के चुप था उसी की शादी में

मज़ा तो सारा इसी रस्म के निबाह में था

ग़ैरों से मिल के ही सही बे-बाक तो हुआ

बारे वो शोख़ पहले से चालाक तो हुआ

ज़मीं के गिर्द भी पानी ज़मीं की तह में भी

ये शहर जम के खड़ा है जो तैरता ही हो

है 'मुनीर' तेरी निगाह में

कोई बात गहरे मलाल की

चाहता हूँ मैं 'मुनीर' इस उम्र के अंजाम पर

एक ऐसी ज़िंदगी जो इस तरह मुश्किल हो

मेरी सारी ज़िंदगी को बे-समर उस ने किया

उम्र मेरी थी मगर उस को बसर उस ने किया

'मुनीर' अच्छा नहीं लगता ये तेरा

किसी के हिज्र में बीमार होना

दिल अजब मुश्किल में है अब अस्ल रस्ते की तरफ़

याद पीछे खींचती है आस आगे की तरफ़

घटा देख कर ख़ुश हुईं लड़कियाँ

छतों पर खिले फूल बरसात के

मुझ से बहुत क़रीब है तू फिर भी 'मुनीर'

पर्दा सा कोई मेरे तिरे दरमियाँ तो है

जुर्म आदम ने किया और नस्ल-ए-आदम को सज़ा

काटता हूँ ज़िंदगी भर मैं ने जो बोया नहीं

कुछ दिन के बा'द उस से जुदा हो गए 'मुनीर'

उस बेवफ़ा से अपनी तबीअत नहीं मिली

क्यूँ 'मुनीर' अपनी तबाही का ये कैसा शिकवा

जितना तक़दीर में लिक्खा है अदा होता है

मैं हूँ भी और नहीं भी अजीब बात है ये

ये कैसा जब्र है मैं जिस के इख़्तियार में हूँ

उस को भी तो जा कर देखो उस का हाल भी मुझ सा है

चुप चुप रह कर दुख सहने से तो इंसाँ मर जाता है