noImage

रसा रामपुरी

1874 - 1913 | रामपुर, भारत

ग़ज़ल 14

शेर 4

वो ख़ुश किसी के साथ हैं ना-ख़ुश किसी के साथ

हर आदमी की बात है हर आदमी के साथ

आए अगर क़यामत तो धज्जियाँ उड़ा दें

फिरते हैं जुस्तुजू में फ़ित्ने तिरी गली के

बड़ी ही धूम से दावत हो फिर तो ज़ाहिद की

ये मय जो चार घड़ी को हलाल हो जाए

  • शेयर कीजिए

"रामपुर" के और शायर

  • मुनीर शिकोहाबादी मुनीर शिकोहाबादी
  • निज़ाम रामपुरी निज़ाम रामपुरी
  • अज़हर इनायती अज़हर इनायती
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • शाहिद इश्क़ी शाहिद इश्क़ी
  • सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम
  • महशर इनायती महशर इनायती
  • दिवाकर राही दिवाकर राही
  • जावेद नसीमी जावेद नसीमी
  • फ़रहान सालिम फ़रहान सालिम