Rasheed lakhnavi's Photo'

रशीद लखनवी

1847 - 1918 | लखनऊ, भारत

मर्सिया, ग़ज़ल और रुबाई के प्रतिष्ठित शायर । मीर अनीस के नवासे

मर्सिया, ग़ज़ल और रुबाई के प्रतिष्ठित शायर । मीर अनीस के नवासे

रशीद लखनवी

ग़ज़ल 37

शेर 24

ज़िंदगी कहते हैं किस को मौत किस का नाम है

मेहरबानी आप की न-मेहरबानी आप की

  • शेयर कीजिए

हँस हँस के कह रहा है जलाना सवाब है

ज़ालिम ये मेरा दिल है चराग़-ए-हरम नहीं

  • शेयर कीजिए

तुम ने एहसान किया है कि नमक छिड़का है

अब मुझे ज़ख़्म-ए-जिगर और मज़ा देते हैं

  • शेयर कीजिए

इंतिज़ार आप का ऐसा है कि दम कहता है

निगह-ए-शौक़ हूँ आँखों से निकल जाऊँगा

  • शेयर कीजिए

हमारी ज़िंदगी-ओ-मौत की हो तुम रौनक़

चराग़-ए-बज़्म भी हो और चराग़-ए-फ़न भी हो

  • शेयर कीजिए

रुबाई 12

पुस्तकें 6

Gulistan-e-Rasheed

 

1951

Gulistan-e-Rasheed

 

1951

Marasi-e-Rasheed

 

1965

Riyaz-e-Shadeed

Volume-003

 

रुबाइयात-ए-रशीद लख़नवी और अहवाल-ए-पीरी

 

2014

Rubaiyat-e-Rasheed Lucknowi Aur Ahwal-e-Peeri

 

2014

 

संबंधित शायर

  • इस्माइल मेरठी इस्माइल मेरठी समकालीन
  • तअशशुक़ लखनवी तअशशुक़ लखनवी Uncle
  • मीर अनीस मीर अनीस दादा

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • मीर हसन मीर हसन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • अज़ीज़ लखनवी अज़ीज़ लखनवी
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी