ग़ज़ल 26

नज़्म 10

शेर 16

अजीब होते हैं आदाब-ए-रुख़स्त-ए-महफ़िल

कि वो भी उठ के गया जिस का घर था कोई

  • शेयर कीजिए

ये मरना जीना भी शायद मजबूरी की दो लहरें हैं

कुछ सोच के मरना चाहा था कुछ सोच के जीना चाहा है

दिलों का हाल तो ये है कि रब्त है गुरेज़

मोहब्बतें तो गईं थी अदावतें भी गईं

पुस्तकें 5

Anfas-e-Sehar

 

1985

Faiz Ke Aas Pas

 

2011

Jareeda Ghalib Library

 

 

ज़िक्र-ए-ग़ालिब, ज़िक्र-ए-अबदुल हक़

 

1971

Afkar, Karachi

Shumara Number-074

1976

 

वीडियो 23

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Apne khoon se jo hum ek shama jalaye huye hain

Professor Sahar Ansari is an Urdu poet, critic and scholar fo Urudu literature and linguistic from Pakistan. Prof. Sahar Ansari has been awarded Tamgha-e-Imtiyaz by the government of Pakistan. Sahar Ansari reciting his ghazal for Rekhta.org. सहर अंसारी

Kaha tak jaya ja sakta hai izhar e mohabbar mein

Professor Sahar Ansari is an Urdu poet, critic and scholar fo Urudu literature and linguistic from Pakistan. Prof. Sahar Ansari has been awarded Tamgha-e-Imtiyaz by the government of Pakistan. Sahar Ansari reciting his ghazal for Rekhta.org. सहर अंसारी

Mile hamesha safhe motabar badalte huye

Professor Sahar Ansari is an Urdu poet, critic and scholar fo Urudu literature and linguistic from Pakistan. Prof. Sahar Ansari has been awarded Tamgha-e-Imtiyaz by the government of Pakistan. Sahar Ansari reciting his ghazal for Rekhta.org. सहर अंसारी

Sahar Ansari Jashne Kaifi Azmi Mushaira

सहर अंसारी

Sahar Ansari on Shabnam Romani - Arts council Karachi May 2010 -10

सहर अंसारी

Sahar Ansari tribute to Nazar Amrohvi

सहर अंसारी

Yaad thay, yaadgaar thay hum tau (Sahar Ansari talks about Jaun Elia) 2/4

सहर अंसारी

Yadgari jalsa in Karachi to remember Urdu poet Qabil Ajmeri held in Apl 2005

सहर अंसारी

सहर अंसारी

अपने ख़ूँ से जो हम इक शम्अ जलाए हुए हैं

सहर अंसारी

किसी भी ज़ख़्म का दिल पर असर न था कोई

सहर अंसारी

मिली भी क्या दर-ए-दौलत से कार-ए-इश्क़ की दाद

सहर अंसारी

रास्तों में इक नगर आबाद है

सहर अंसारी

विसाल-ओ-हिज्र से वाबस्ता तोहमतें भी गईं

सहर अंसारी

सज़ा बग़ैर अदालत से मैं नहीं आया

सहर अंसारी

सज़ा बग़ैर अदालत से मैं नहीं आया

सहर अंसारी

सदा अपनी रविश अहल-ए-ज़माना याद रखते हैं

सहर अंसारी

हम अहल-ए-ज़र्फ़ कि ग़म-ख़ाना-ए-हुनर में रहे

सहर अंसारी

हवस ओ वफ़ा की सियासतों में भी कामयाब नहीं रहा

सहर अंसारी

संबंधित शायर

  • सरवत हुसैन सरवत हुसैन समकालीन
  • सरवत हुसैन सरवत हुसैन समकालीन
  • अनवर शऊर अनवर शऊर समकालीन
  • अनवर ख़लील अनवर ख़लील समकालीन

"कराची" के और शायर

  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी
  • परवीन शाकिर परवीन शाकिर
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • दिलावर फ़िगार दिलावर फ़िगार
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • उबैदुल्लाह अलीम उबैदुल्लाह अलीम
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास