aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

CANCEL DOWNLOAD SHER
Shamsur Rahman Faruqi's Photo'

Shamsur Rahman Faruqi

1935 - 2020 | Allahabad, India

Poet, fiction writer and one of the leading Urdu critics

Poet, fiction writer and one of the leading Urdu critics

Shamsur Rahman Faruqi

Article 54

Short story 4

 

Quote 24

तन्क़ीद का मक़सद मालूमात में इज़ाफ़ा करना नहीं बल्कि इल्म में इज़ाफ़ा करना है।

  • Share this

दुनिया की निगाहों में तो मेरी पहचान ऐसे नक़्क़ाद की है जिसने अदब के हर मैदान में तन्क़ीद का हक़ अदा किया है लेकिन जिसके ख़्यालात ने लोगों को गुमराह भी किया है। फ़र्क़ सिर्फ ये है कि दुनिया जिसे गुमराही क़रार देती है मैं उसे राह-ए-मुस्तक़ीम समझता हूँ।

  • Share this

जब तालीम के नाम पर ख़ाँदगी की तौसीअ होने लगती है तो मेयार में ज़बरदस्त इन्हितात पैदा होता है।

  • Share this

अदब में ये कोई शर्त नहीं है कि महसूस की हुई बातें ही लिखी जाएं। अदब तो ज़बान का मामला है। ज़बान में जो इज़हार मुम्किन है वो अदब का इज़हार हो सकता है।

  • Share this

उर्दू एक छोटी ज़बान है और उम्र भी इसकी बहुत कम है। इस के बोलने वालों की कोई सियासी क़ुव्वत भी नहीं है। जैसी कि अरबी बोलने वालों की है। लेकिन फिर भी उर्दू इस वक़्त दुनिया की चंद एक ज़बानों में से एक है जो हक़ीक़ी तौर पर बैन-उल-अक़वामी हैं।

  • Share this

interview 10

Sher-o-Shayari 1

banā.eñge na.ī duniyā ham apnī

tirī duniyā meñ ab rahnā nahīñ hai

banaenge nai duniya hum apni

teri duniya mein ab rahna nahin hai

  • Share this
 

Ghazal 20

Nazm 17

BOOKS 509

Videos 20

This video is playing from YouTube

Playing videos from section
Humorous

Shamsur Rahman Faruqi

jibra.iil-o-ibliis

jibra.iil Shamsur Rahman Faruqi

qatl kiye par Gussa kyaa hai laash mirii uThvaane do

Shamsur Rahman Faruqi

yagaangat

zamaane me.n ko.ii buraa.ii nahii.n hai Shamsur Rahman Faruqi

dil-e-naadaa.n tujhe hu.aa kyaa hai

Shamsur Rahman Faruqi

piyaa baaj pyaalaa piyaa jaa.e naa

Shamsur Rahman Faruqi

samundar kaa bulaavaa

ye sargoshiyaa.n kah rahii hai.n ab aa.o ki barso.n se tum ko bulaate bulaate mire Shamsur Rahman Faruqi

RELATED Blog

 

RELATED Poets

More Poets From "Allahabad"

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
Speak Now