noImage

सुलतान फ़ारूक़ी

1932 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ग़ज़ल 2

 

शेर 1

माना कि हम वतन से अज़ीज़ों से दूर हैं

तहज़ीब से जुदा हैं उर्दू ज़बाँ से दूर

  • शेयर कीजिए
 

ई-पुस्तक 1

 

"लंदन" के और शायर

  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़
  • यावर अब्बास यावर अब्बास
  • परवीन मिर्ज़ा परवीन मिर्ज़ा
  • सय्यद जमील मदनी सय्यद जमील मदनी
  • शाहीन सिद्दीक़ी शाहीन सिद्दीक़ी
  • बख़्श लाइलपूरी बख़्श लाइलपूरी
  • अब्दुल रहमान बज़्मी अब्दुल रहमान बज़्मी
  • आमिर मौसवी आमिर मौसवी
  • मुनीर अहमद देहलवी मुनीर अहमद देहलवी
  • रहमत क़रनी रहमत क़रनी