Swapnil Tiwari's Photo'

स्वप्निल तिवारी

1984 | मुंबई, भारत

चित्र शायरी 1

धीरे धीरे ढलते सूरज का सफ़र मेरा भी है शाम बतलाती है मुझ को एक घर मेरा भी है जिस नदी का तू किनारा है उसी का मैं भी हूँ तेरे हिस्से में जो है वो ही भँवर मेरा भी है एक पगडंडी चली जंगल में बस ये सोच कर दश्त के उस पार शायद एक घर मेरा भी है फूटते ही एक अंकुर ने दरख़्तों से कहा आसमाँ इक चाहिए मुझ को कि सर मेरा भी है आज बेदारी मुझे शब भर ये समझाती रही इक ज़रा सा हक़ तुम्हारे ख़्वाबों पर मेरा भी है मेरे अश्कों में छुपी थी स्वाती की इक बूँद भी इस समुंदर में कहीं पर इक गुहर मेरा भी है शाख़ पर शब की लगे इस चाँद में है धूप जो वो मिरी आँखों की है सो वो समर मेरा भी है तू जहाँ पर ख़ाक उड़ाने जा रहा है ऐ जुनूँ हाँ उन्हीं वीरानियों में इक खंडर मेरा भी है जान जाते हैं पता 'आतिश' धुएँ से सब मिरा सोचता रहता हूँ क्या कोई मफ़र मेरा भी है

 

वीडियो 9

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
ऐसी अच्छी सूरत निकली पानी की

स्वप्निल तिवारी

किरन इक मोजज़ा सा कर गई है

स्वप्निल तिवारी

किसी ने भी न मेरी ठीक तर्जुमानी की

स्वप्निल तिवारी

धूप के भीतर छुप कर निकली

स्वप्निल तिवारी

नदी की लय पे ख़ुद को गा रहा हूँ

स्वप्निल तिवारी

मुँह अँधेरे तेरी यादों से निकलना है मुझे

स्वप्निल तिवारी

मिली है राहत हमें सफ़र से

स्वप्निल तिवारी

मिली है राहत हमें सफ़र से

स्वप्निल तिवारी

समाअतों में बहुत दूर की सदा ले कर

स्वप्निल तिवारी

"मुंबई" के और शायर

  • शकील बदायुनी शकील बदायुनी
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • गुलज़ार गुलज़ार
  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री
  • अख़्तर-उल-ईमान अख़्तर-उल-ईमान
  • मजरूह सुल्तानपुरी मजरूह सुल्तानपुरी
  • अब्दुल अहद साज़ अब्दुल अहद साज़
  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर
  • राजेश रेड्डी राजेश रेड्डी
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर