Tajwar Najibabadi's Photo'

ताजवर नजीबाबादी

1894 - 1951 | लाहौर, पाकिस्तान

ताजवर नजीबाबादी

ग़ज़ल 7

शेर 9

नज़र भर के जो देख सकते हैं तुझ को

मैं उन की नज़र देखना चाहता हूँ

  • शेयर कीजिए

उफ़ वो नज़र कि सब के लिए दिल-नवाज़ है

मेरी तरफ़ उठी तो तलवार हो गई

  • शेयर कीजिए

ख़ुदा मुझ को तुझ से ही महरूम कर दे

जो कुछ और तेरे सिवा चाहता हूँ

  • शेयर कीजिए

बर्दाश्त दर्द-ए-इश्क़ की दुश्वार हो गई

अब ज़िंदगी भी जान का आज़ार हो गई

  • शेयर कीजिए

ग़म-ए-मोहब्बत में दिल के दाग़ों से रू-कश-ए-लाला-ज़ार हूँ मैं

फ़ज़ा बहारीं है जिस के जल्वों से वो हरीफ़-ए-बहार हूँ मैं

पुस्तकें 67

संबंधित शायर

"लाहौर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI