Yazdani Jalandhari's Photo'

यज़दानी जालंधरी

1915 - 1990 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 11

शेर 5

इज्ज़ के साथ चले आए हैं हम 'यज़्दानी'

कोई और उन को मना लेने का ढब याद नहीं

  • शेयर कीजिए

मिला है तपता सहरा देखने को

चले थे घर से दरिया देखने को

  • शेयर कीजिए

बज़्म-ए-वफ़ा सजी तो अजब सिलसिले हुए

शिकवे हुए उन से हम से गिले हुए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

देहाती समाज

 

1942

क़ैदी के ख़ुतूत और दीगर अफ़साने

 

1945

स्वामी

 

 

Uljhan

 

1988

 

चित्र शायरी 1

मिला है तपता सहरा देखने को चले थे घर से दरिया देखने को

 

संबंधित शायर

  • कैफ़ी आज़मी कैफ़ी आज़मी समकालीन
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी समकालीन
  • ताजवर नजीबाबादी ताजवर नजीबाबादी गुरु
  • एहसान दानिश एहसान दानिश समकालीन
  • जाँ निसार अख़्तर जाँ निसार अख़्तर समकालीन

"लाहौर" के और शायर

  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • अब्बास ताबिश अब्बास ताबिश
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • अमजद इस्लाम अमजद अमजद इस्लाम अमजद
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील
  • साग़र सिद्दीक़ी साग़र सिद्दीक़ी
  • सैफ़ुद्दीन सैफ़ सैफ़ुद्दीन सैफ़
  • ज़हीर काश्मीरी ज़हीर काश्मीरी
  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़