ग़ज़ल 11

शेर 16

रूठ कर आँख के अंदर से निकल जाते हैं

अश्क बच्चों की तरह घर से निकल जाते हैं

फेंक दे ख़ुश्क फूल यादों के

ज़िद कर तू भी बे-वफ़ा हो जा

बदन में रूह की तर्सील करने वाले लोग

बदल गए मुझे तब्दील करने वाले लोग

"कराची" के और शायर

  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी