Tauseef Tabassum's Photo'

तौसीफ़ तबस्सुम

1928 | इस्लामाबाद, पाकिस्तान

ग़ज़ल 19

शेर 10

दिल की बाज़ी हार के रोए हो तो ये भी सुन रक्खो

और अभी तुम प्यार करोगे और अभी पछताओगे

अच्छा है कि सिर्फ़ इश्क़ कीजे

ये उम्र तो यूँ भी राएगाँ है

पाँव में लिपटी हुई है सब के ज़ंजीर-ए-अना

सब मुसाफ़िर हैं यहाँ लेकिन सफ़र में कौन है

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 2

Pachaas Afsane

 

2009

Pakistani Adab

 

1992

 

संबंधित शायर

  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास समकालीन

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • सलीम शाहिद सलीम शाहिद
  • ज़करिय़ा शाज़ ज़करिय़ा शाज़
  • आरिफ़ा शहज़ाद आरिफ़ा शहज़ाद
  • फरीहा नक़वी फरीहा नक़वी
  • बक़ा बलूच बक़ा बलूच
  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी
  • तौक़ीर तक़ी तौक़ीर तक़ी
  • यासमीन हबीब यासमीन हबीब
  • नवेद मालिक नवेद मालिक
  • एजाज़ फ़ारूक़ी एजाज़ फ़ारूक़ी