Abbas Tabish's Photo'

अब्बास ताबिश

1961 | लाहौर, पाकिस्तान

प्रख्यात पाकिस्तानी शायर जो मुशायरों में भी लोकप्रिय हैं।

प्रख्यात पाकिस्तानी शायर जो मुशायरों में भी लोकप्रिय हैं।

अब्बास ताबिश

ग़ज़ल 89

नज़्म 8

अशआर 62

ये मोहब्बत की कहानी नहीं मरती लेकिन

लोग किरदार निभाते हुए मर जाते हैं

एक मुद्दत से मिरी माँ नहीं सोई 'ताबिश'

मैं ने इक बार कहा था मुझे डर लगता है

मुद्दत के बाद ख़्वाब में आया था मेरा बाप

और उस ने मुझ से इतना कहा ख़ुश रहा करो

  • शेयर कीजिए

हम हैं सूखे हुए तालाब पे बैठे हुए हंस

जो तअल्लुक़ को निभाते हुए मर जाते हैं

जिस से पूछें तिरे बारे में यही कहता है

ख़ूबसूरत है वफ़ादार नहीं हो सकता

क़ितआ 1

 

पुस्तकें 6

 

वीडियो 12

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अब्बास ताबिश

Abbas Tabish - Hamari Association Mushaira - Dubai 2012

अब्बास ताबिश

Abbas Tabish at a mushaira in Houston in 2009

अब्बास ताबिश

Aligarh Alumni Intl Mushera 9-20-2014

अब्बास ताबिश

At a mushaira

अब्बास ताबिश

Mushaira -Kavi Sammelan 2013 BAHRAIN (Sham-e-Gulzar)

अब्बास ताबिश

Reading his poetry at a mushaira

अब्बास ताबिश

Sarhadon Se Aage - 2012

अब्बास ताबिश

पानी आँख में भर कर लाया जा सकता है

अब्बास ताबिश

पानी आँख में भर कर लाया जा सकता है

अब्बास ताबिश

मेरी तन्हाई बढ़ाते हैं चले जाते हैं

अब्बास ताबिश

हँसने नहीं देता कभी रोने नहीं देता

अब्बास ताबिश

"लाहौर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए