ग़ज़ल 6

शेर 8

चाहिए क्या तुम्हें तोहफ़े में बता दो वर्ना

हम तो बाज़ार के बाज़ार उठा लाएँगे

तूफ़ान-ए-बहर ख़ाक डराता मुझे 'तुराब'

उस से बड़ा भँवर तो सफ़ीने के बीच था

  • शेयर कीजिए

तराश और भी अपने तसव्वुर-ए-रब को

तिरे ख़ुदा से तो बेहतर मिरा सनम है अभी

ई-पुस्तक 1

बारिश में शरीक

 

2012

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • ज़करिय़ा शाज़ ज़करिय़ा शाज़
  • सरफ़राज़ ज़ाहिद सरफ़राज़ ज़ाहिद
  • फरीहा नक़वी फरीहा नक़वी
  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी
  • यासमीन हबीब यासमीन हबीब
  • तौक़ीर तक़ी तौक़ीर तक़ी
  • नवेद मालिक नवेद मालिक
  • शहनाज़ मुज़म्मिल शहनाज़ मुज़म्मिल
  • एजाज़ फ़ारूक़ी एजाज़ फ़ारूक़ी
  • बक़ा बलूच बक़ा बलूच