ग़ज़ल 6

शेर 8

चाहिए क्या तुम्हें तोहफ़े में बता दो वर्ना

हम तो बाज़ार के बाज़ार उठा लाएँगे

हाँ तुझे भी तो मयस्सर नहीं तुझ सा कोई

है तिरा अर्श भी वीराँ मिरे पहलू की तरह

यूँ मोहब्बत से हम ख़ाना-ब-दोशों को बुला

इतने सादा हैं कि घर-बार उठा लाएँगे

ई-पुस्तक 1

बारिश में शरीक

 

2012

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • नवेद मालिक नवेद मालिक
  • बुशरा सईद बुशरा सईद
  • सरफ़राज़ ज़ाहिद सरफ़राज़ ज़ाहिद
  • रहमान फ़ारिस रहमान फ़ारिस
  • शकील जाज़िब शकील जाज़िब
  • नज़ीर सिद्दीक़ी नज़ीर सिद्दीक़ी
  • तौसीफ़ तबस्सुम तौसीफ़ तबस्सुम
  • नूर बिजनौरी नूर बिजनौरी
  • एजाज़ गुल एजाज़ गुल
  • सरफ़राज़ शाहिद सरफ़राज़ शाहिद

Added to your favorites

Removed from your favorites