Bashir Badr's Photo'

बशीर बद्र

1935 | भोपाल, भारत

ग़ज़ल 88

शेर 163

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो

जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

ज़िंदगी तू ने मुझे क़ब्र से कम दी है ज़मीं

पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी

यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता

she would have had compulsions surely

faithless without cause no one can be

  • शेयर कीजिए

लतीफ़े 5

 

पुस्तकें 17

Aas

 

1993

Aas

 

1993

आज़ादी के बाद की ग़ज़ल का तन्क़ीदी मुताला

 

1981

बशीर बद्र की ग़ज़लें

 

2001

Basheer Badr: Fan-o-Shakhsiyat

 

1988

डॉ. बशीर बद्र की शायरी

 

2005

Ghazal Ka Aham Mod: Basheer Badr

 

2010

Ghazal Universe

 

2003

Ikai

 

1969

Image

 

1973

चित्र शायरी 23

सात संदूक़ों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें आज इंसाँ को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत

उस की आँखों को ग़ौर से देखो मंदिरों में चराग़ जलते हैं

न तुम होश में हो न हम होश में हैं चलो मय-कदे में वहीं बात होगी

वीडियो 43

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Bashir Badr at International Mushaira 2002, Houston

Dr. Basheer Badr reciting at International Mushaira 2002 organised by Aligarh Alumni Association Houston USA ज़फ़र इक़बाल

Bashir Badr reciting at Hind-o-Pak Dosti Aalmi Mushaira 2003, organized by Aligarh Alumni Association Houston, USA.

ज़फ़र इक़बाल

Yeh Chirag Be Nazar Hai

भारती विश्वनाथन

यूँही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो

ज़फ़र इक़बाल

अगर यक़ीं नहीं आता तो आज़माए मुझे

फ़हद

अगर यक़ीं नहीं आता तो आज़माए मुझे

हरिहरण

अगर यक़ीं नहीं आता तो आज़माए मुझे

हरिहरण

अब किसे चाहें किसे ढूँडा करें

शकीला ख़ुरासानी

अभी इस तरफ़ न निगाह कर मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ

प्रित डिलन

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा

Urdu Studio

कभी यूँ भी आ मिरी आँख में कि मिरी नज़र को ख़बर न हो

जगजीत सिंह

कहाँ आँसुओं की ये सौग़ात होगी

अज्ञात

कहीं चाँद राहों में खो गया कहीं चाँदनी भी भटक गई

तलअत अज़ीज़

कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बँधा हुआ

आर.जे सायमा

कौन आया रास्ते आईना-ख़ाने हो गए

जगजीत सिंह

ख़ुशबू की तरह आया वो तेज़ हवाओं में

चंदन दास

जब रात की तन्हाई दिल बन के धड़कती है

हरिहरण

दुआ करो कि ये पौदा सदा हरा ही लगे

चंदन दास

न जी भर के देखा न कुछ बात की

नूर जहाँ

न जी भर के देखा न कुछ बात की

अज्ञात

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता

जगजीत सिंह

फूल बरसे कहीं शबनम कहीं गौहर बरसे

राज कुमार रिज़वी

भीगी हुई आँखों का ये मंज़र न मिलेगा

तलअत अज़ीज़

मैं कब तन्हा हुआ था याद होगा

चंदन दास

मुझ से बिछड़ के ख़ुश रहते हो

जगजीत सिंह

मुसाफ़िर के रस्ते बदलते रहे

राजेन्द्र मेहता

मान मौसम का कहा छाई घटा जाम उठा

जगजीत सिंह

मिरे दिल की राख कुरेद मत इसे मुस्कुरा के हवा न दे

Urdu Studio

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला

जगजीत सिंह

ये चराग़ बे-नज़र है ये सितारा बे-ज़बाँ है

चंदन दास

यूँही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो

Urdu Studio

यूँही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो

विविध

रेत भरी है इन आँखों में आँसू से तुम धो लेना

तलअत अज़ीज़

रेत भरी है इन आँखों में आँसू से तुम धो लेना

तलअत अज़ीज़

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में

ज़फ़र इक़बाल

वो अपने घर चला गया अफ़्सोस मत करो

गुलबहार बानो

वो चाँदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है

चंदन दास

शबनम के आँसू फूल पर ये तो वही क़िस्सा हुआ

तलअत अज़ीज़

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा

जगजीत सिंह

सर-ए-राह कुछ भी कहा नहीं कभी उस के घर मैं गया नहीं

तलअत अज़ीज़

सोचा नहीं अच्छा बुरा देखा सुना कुछ भी नहीं

चित्रा सिंह

है अजीब शहर की ज़िंदगी न सफ़र रहा न क़याम है

आर.जे सायमा

होंटों पे मोहब्बत के फ़साने नहीं आते

भारती विश्वनाथन

ऑडियो 18

अगर यक़ीं नहीं आता तो आज़माए मुझे

अभी इस तरफ़ न निगाह कर मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ

कभी यूँ भी आ मिरी आँख में कि मिरी नज़र को ख़बर न हो

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"भोपाल" के और शायर

  • कैफ़ भोपाली कैफ़ भोपाली
  • नुसरत मेहदी नुसरत मेहदी
  • अख़्तर सईद ख़ान अख़्तर सईद ख़ान
  • ज़िया फ़ारूक़ी ज़िया फ़ारूक़ी
  • अहमद कमाल परवाज़ी अहमद कमाल परवाज़ी
  • बख़्तियार ज़िया बख़्तियार ज़िया
  • डॉक्टर आज़म डॉक्टर आज़म
  • मंज़र भोपाली मंज़र भोपाली
  • रश्मि सबा रश्मि सबा
  • ज़फ़र सहबाई ज़फ़र सहबाई