Bashir Farooqi's Photo'

बशीर फ़ारूक़ी

1939 - 2019 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 10

शेर 6

आगही कर्ब वफ़ा सब्र तमन्ना एहसास

मेरे ही सीने में उतरे हैं ये ख़ंजर सारे

हम तेरे पास के परेशान हैं बहुत

हम तुझ से दूर रहने को तय्यार भी नहीं

चले भी आओ कि ये डूबता हुआ सूरज

चराग़ जलने से पहले मुझे बुझा देगा

ई-पुस्तक 2

दायरों के दरमियान

 

2009

परों के दरमियाँ

 

1996

 

"लखनऊ" के और शायर

  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • वाली आसी वाली आसी
  • मीर अली औसत रशक मीर अली औसत रशक
  • गोपी नाथ अम्न गोपी नाथ अम्न
  • आदिल लखनवी आदिल लखनवी
  • तसनीम फ़ारूक़ी तसनीम फ़ारूक़ी
  • मेराज फ़ैज़ाबादी मेराज फ़ैज़ाबादी
  • साग़र ख़य्यामी साग़र ख़य्यामी
  • मोहसिन ज़ैदी मोहसिन ज़ैदी
  • आजिज़ मातवी आजिज़ मातवी